स्नेहा ने शादी के बाद जीते 146 गोल्‍ड मेडल, सास ने बढ़ाया था हौसला

जोधपुर स्नेहा जैन जोधपुर की रहने वाली हैं। शादी के बाद भी दौड़ रही हैं। अब तक स्‍नेहा जैन 146 गोल्ड मेडल जीत चुकी हैं। वैसे 100 मीटर व 200 मीटर फर्राटा दौड़ के अलावा लॉन्‍ग व ट्रिपल जंप व टीम स्पर्धा में अपने करियर में स्नेहा कुल 259 स्वर्ण पदक जीत चुकी हैं।

स्नेहा जैन

स्नेहा जैन का लक्ष्य

44 साल की स्नेहा जैन का लक्ष्य फरवरी में श्रीलंका में होने वाले विश्व मास्टर एथलेटिक्स चैंपियनशिप पर है ताकि वे एकल स्पर्धा में 150 गोल्ड मैडल का आंकड़ा छू सके। हाल में एमपी में नेशनल मास्टर्स मीट में पांच गोल्ड जीतने पर उन्हें देश का सर्वश्रेष्ठ एथलीट चुना गया था। स्नेहा जैन का करियर 8 साल की उम्र में शुरू हुआ। कोटा में तीसरी क्लास में पढ़ाई के समय 100 व 200 मीटर दौड़ में गोल्ड जीता था। इसके बाद वे सरकारी स्कूल में पढ़ने गई और हर इवेंट में टॉप थ्री में रही।

नेशनल कैंप में चुना गया

8वीं में स्टेट टीम में सलेक्ट हुई और फिर नेशनल टीम में शामिल हुई। 1996 में उन्हें बेंगलुरू में हुए नेशनल कैंप में चुना गया। जहां उनका कॉम्पिटीशन पीटी ऊषा व अश्विनी जैसी देश की सर्वश्रेष्ठ एथलीटों से था। उन्हें भारतीय टीम में चयन की उम्मीद थी, लेकिन मां के देहांत की सूचना पर कैंप छोड़ आईं। बाद में डाक-तार विभाग में उन्हें खेल कोटे से नौकरी मिल गई तो वे विभागीय स्तर पर नेशनल इवेंट में भाग लेती रहीं।

स्नेहा जैन

सास बोली, घरेलू काम छोड़ो और…

वर्ष 2000 में स्नेहा जैन की शादी जोधपुर के प्रदीप जैन से हुई। शादी के बाद भी उन्होंने दौड़ने की इच्छा जताई। पति व सास चंचल ने पूरा सपोर्ट किया। स्नेहा कहती है, सास ने मां जैसा प्यार दिया और खेलने की छूट दी। वे घरेलू काम में हाथ बंटाती तो सास कहती, प्रेक्टिस करो और आगे बढ़ो, जो सपने पहले पूरे नहीं किए, अब करो। इसी कारण जो सपने पहले पूरे नहीं कर पाई, वे शादी के बाद रिटायरमेंट की उम्र में पूरे किए और 15 साल में 146 स्वर्ण पदक जीत लिए।

चार इंटरनेशनल रिकार्ड बनाए, नेशनल स्तर पर भी छाई- 2007 में लॉन्ग जंप में 35 साल से अधिक आयु वर्ग में स्नेहा ने 5.16 मीटर कूद का राष्ट्रीय रिकॉर्ड बनाया। ट्रिपल जंप में उनके नाम एशियन रिकार्ड है, जो 2008 में मलेशिया में 9.38 मीटर के साथ बनाया। अगले साल फिनलैंड की वर्ल्ड एथलीट मीट में गोल्ड जीता। श्रीलंका में लॉन्ग जंप में इंटरनेशनल रिकार्ड भी बनाया। उनके नाम अब तक 329 पदक हो चुके हैं। जिनमें 146 गोल्ड, 54 सिल्वर व 16 ब्रॉन्ज मेडल हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button