स्मार्टफोन छोटे बच्चों के लिए है बेहद खतरनाक, पढ़े पूरी जानकारी

0

न्यूयॉर्क। अगर आपका रोता हुआ बच्चा स्मार्टफोन पाने के बाद चुप हो जाता है तो आपको यह तरीका बदलने की जरूरत है। माता-पिता को इस बात पर ध्यान देने की जरूरत है कि अपने बच्चों को चुप कराने के लिए स्मार्टफोन देना सही नहीं है। अमेरिकी बाल रोग अकादमी ने शुक्रवार को इसे लेकर नए दिशा निर्देश जारी किए हैं। दिशा-निर्देश के अनुसार, डिजिटल मीडिया का ज्यादा इस्तेमाल बच्चों की नींद की गुणवत्ता, बच्चे के विकास और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह है।

यह भी पढ़े- पढ़ने की उम्र में यहां की लडकियां बन जाती हैं सेक्स वर्कर, सिर्फ 124 रुपये में होता है इनका सौदा

स्मार्टफोन

स्मार्टफोन छोटे बच्चों के लिए है बेहद खतरनाक, पढ़े पूरी जानकारी

शोधकर्ताओं का कहना है कि हालांकि कई खास मौकों पर जैसे हवाईजहाज यात्रा या चिकित्सा प्रक्रियाओं के दौरान डिजिटल मीडिया उपकरण का इस्तेमाल करना सुखदायक होता है, पर माता-पिता को बच्चों को शांत कराने के लिए इस तरीके का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए।

अमेरिका के मिशिगन विश्वविद्यालय के सी. एस. मोट चिल्ड्रेन अस्पताल के प्रमुख लेखक जेनी रडेस्की ने कहा कि एक सामान्य सुखदायक रणनीति के तौर पर इस तरह के उपकरणों का इस्तेमाल बच्चों की भावनाओं को नियंत्रित करने की क्षमता को सीमित कर सकता है।

यह भी पढ़े- पत्नी की आत्महत्या के मामले में कबड्डी प्लेयर गिरफ्तार, करता था पत्नी को प्रताड़ित

रडेस्की ने कहा कि डिजिटल मीडिया कई शिशुओं, छोटे बच्चों और स्कूल की शुरुआत वाले बच्चों के बचपन का अनिवार्य हिस्सा बन गया है, लेकिन यह शोध में उनके विकास पर पड़ने वाले प्रभाव पर सीमित है।

उन्होंने कहा कि क्या हम जानते हैं कि शुरुआती बचपन तेजी से दिमाग के विकास का समय होता है। जब बच्चों की खेलने, सोने और अपने भावनाओं को संभालने और संबंध बनाने की जरूरत के लिए समय की जरूरत होती है। शोधकर्ताओं का सुझाव है कि स्मार्टफोन  का ज्यादा इस्तेमाल इन गतिविधियों में रुकावट पैदा करता है।

loading...
शेयर करें