जिसने पीएम मोदी को इस मुकाम तक पहुंचाया, आज वही शख्स छोड़ गया दुनिया

कोलकाता। पीएम नरेंद्र मोदी के आध्यात्मिक गुरु और रामकृष्ण मठ के प्रमुख स्वामी आत्मस्थानंद महाराज का 99 वर्ष में निधन हो गया। वह लंबी समय से बीमार चल रहे थे। शनिवार सुबह से उनकी हालत काफी बिगड़ गई थी और उन्हें वेंटीलेटर पर रखा गया था। उनका डायलिसिस चल रहा था। जिसके बाद रविवार को उनका निधन हो गया।

वे उम्रजनित बीमारियों को लेकर कोलकाता के मिशन सेवा प्रतिष्ठान में भर्ती थे

वे उम्रजनित बीमारियों को लेकर फरवरी, 2015 से दक्षिण कोलकाता स्थित रामकृष्ण मिशन सेवा प्रतिष्ठान में भर्ती थे। उनकी खराब स्थिति की खबर पाकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी उन्हें देखने अस्पताल पहुंची थीं। उनके इलाज के लिए मेडिकल बोर्ड का गठन किया गया था, जिसमें 16 डॉक्टर शामिल थे। अस्पताल सूत्रों के मुताबिक रविवार शाम करीब 5.30 बजे उन्होंने आखिरी सांस ली। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है।

मोदी ने स्वामी आत्मस्थानंद महाराज के निधन पर दुख व्यक्त किया है

वहीं, प्रधानमंत्री मोदी ने स्वामी आत्मस्थानंद महाराज के निधन पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने स्वामी के निधन को अपनी निजी क्षति बताया है। मोदी ने ट्विटर पर लिखा कि मैं अपनी जिंदगी के महत्वूपर्ण क्षण में उनके साथ रहा था। गौरतलब है कि स्वामी आत्मस्थानंद महाराज 22 वर्ष की उम्र में बेलूरमठ स्थित रामकृष्ण मिशन से जुड़े थे। मई, 2015 में जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोलकाता आए थे तो उन्होंने अस्पताल जाकर आत्मस्थानंद महाराज से मुलाकात की थी। नरेंद्र मोदी किशोरावस्था में संन्यासी बनने बेलूरमठ आए थे, लेकिन स्वामी आत्मस्थानंद महाराज ने यह कहते हुए उनके अनुरोध को खारिज कर दिया था कि उनकी कहीं और जरूरत है।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *