काउंटडाउन शुरू, 1 जुलाई को मौर्य करेंगे रणनीति का खुलासा

0

लखनऊ। साल 2017 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले सभी पार्टियों में सियासी गर्माहट होने लगी है। बीते दिनों बसपा का साथ छोड़ने वाले स्वामी प्रसाद मौर्या के भाजपा में जाने की अटकलें तेज होती जा रही हैं। बसपा का साथ छोड़ने और सपा को गुडों की पार्टी कहने के बाद ये तो साफ हो गया है कि मौर्य अब भाजपा का साथ पकड़ सकते हैं।

स्वामी प्रसाद मौर्या

बता दें कि मौर्या ने लखनऊ में एक जुलाई को अपने समर्थकों की बैठक बुलाई है। जिसमें वह साफ कर देंगे कि वे आगे क्या करने जा रहे हैं। मौर्य ने लखनऊ के एक स्कूल में अपने समर्थकों की बैठक बुलाई है। इस बैठक के बाद ही उनकी पूरी रणनीति का खुलासा होगा। मौर्य का कहना है कि जो कुछ भी मीडिया में चल रहा है सब हवा-हवाई है।

बीते कुछ दिनों पहले स्वामी प्रसाद मौर्या ने बीजेपी के आगे बीएसपी के 22 विधायकों के समर्थन का दावा किया था। बीजेपी अब बदले हुए हालात में मौर्या की ताकत का अंदाजा लगा रही है। मौर्या, सैनी, शाक्य और कुशवाहा एक जैसी जातियां है। यूपी में आठ से नौ प्रतिशत वोट इस बिरादरी के है। अब तक बीएसपी का इस वोट बैंक पर दबदबा रहा है लेकिन पहले बाबू सिंह कुशवाहा और अब स्वामी प्रसाद मौर्य के बीएसपी से जाने के बाद अब ये बीजेपी के पाले में जाते दिख रहे हैं।

loading...
शेयर करें