नोटबंदी पर शंकराचार्य ने दिया बड़ा बयान

0

देहरादून शारदा और ज्योतिष पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती हमेशा अपने बयानों के चलते सुर्ख़ियों में बने रहते हैं। अब उन्होंने नोटबंदी को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि अगर बीजेपी बहुमत में आती है, तो ये विपक्षियों की विफलता की वजह से ऐसा होगा। इसका नोटबंदी से कोई मतलब नहीं है। साथ ही उन्होंने कहा कि सौ अपराधी बच जाएं, किंतु एक निर्दोष को सजा नहीं मिलनी चाहिए। नोटबंदी का उल्टा प्रभाव देखने में आया है।

स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती

स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने 5 राज्यों पर दिया बयान

शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने पांच राज्यों के चुनाव में नोटबंदी के कनेक्शन को लेकर बड़ा बयान दिया है। कहा कि यदि भाजपा को बहुमत मिलता है तो इसे नोटबंदी पर मुहर नहीं माना जाएगा। अन्य दलों की घोर कमजोरी के चलते विकल्पहीनता की स्थिति में जनता को पशोपेश में फंसी हुई है। उन्होंने कहा कि कैशलेस व्यवस्था अनिवार्य रूप से नहीं अपितु वैकल्पिक रूप से जारी की जानी चाहिए।

हरिद्वार के कनखल स्थित स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती मठ से जगद्गुरु का बयान स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने जारी किया। काशी के विद्यामठ से बयान जारी करते हुए ज्योतिष पीठाधीश्वर ने कहा कि नोटबंदी वास्तव में मनुष्य की स्वतंत्रता का हनन है।

इससे धर्म क्षेत्र की भी हानि हुई है और यज्ञ, दान तथा तीर्थाटन पर प्रभाव पड़ा है। व्यक्ति अपना धन मन इच्छा से खर्च नहीं कर पा रहा है। तीर्थाटन प्रभावित होने का असर देश के तमाम तीर्थों पर पड़ा है।

उन्होंने कहा कि भारत की जनता परलोक में विश्वास रखती है और परलोक बिगाडने वालों को अच्छा नहीं मानती। उन्होंने कहा कि भारत जैसे समस्याग्रस्त देश के लिए कैशलेस व्यवस्था लंबे समय तक ठीक नहीं रहेगी।

इसका प्रचलन मात्र वैकल्पिक रूप में होना चाहिए। जनता की आर्थिक स्वतंत्रता छीनने की इजाजत किसी को नहीं दी जा सकती। जगद्गुरु ने कहा कि दंड शास्त्र का सर्वभौम सिद्धांत है कि चाहे सौ अपराधी बच जाएं, किंतु एक निर्दोष को सजा नहीं मिलनी चाहिए। नोटबंदी का उल्टा प्रभाव देखने में आया है।

 

loading...
शेयर करें