स्‍नैपडील की दीप्ति ने पुलिस से आखिर क्‍यों कहा था देवेंद्र को न पकड़ने को ?

0

नई दिल्‍ली मैं तुमसे दूर चला जाऊं ये हो नहीं सकता, और तुम मुझसे दूर चली जाओ ये मैं होने नहीं दूंगा…ऐसी बातें तो फिल्‍मों और कहानियों में देखने को मिलती हैं। लेकिन कुछ लोग इसे रियल लाइफ में भी सच कर देते हैं। देश का बहुचर्चित स्‍नैपडील की दीप्ति सरन अपहरण केस कुछ ऐसा ही था, ऐसा मामला तो शायद फिल्‍मों और कहानियों में भी न देखा गया हो। साइको लवर देवेंद्र स्‍नैपडील की दीप्ति के प्‍यार में इतना पागल हो चुका था कि उसने एक सोची समझी किडनैपिंग की साजिश रच दी। देवेंद्र के ड्रामे में दीप्ति इस कदर उलझ गई थी कि वह विलेन देवेंद्र को ‘हीरो’ तक समझने लगी थी।

स्‍नैपडील की दीप्ति

स्‍नैपडील की दीप्ति उस पर यकीन करने लगी थी

शायद ये कम ही लोगों को पता होगा कि दीप्ति ने अपने अपहरण के दोषी देवेंद्र को न पकड़ने के लिए एसएसपी से कहा था। क्‍योंकि देवेंद्र ने 36 घंटे के अंदर दीप्ति के सामने खुद को ऐसा नाटक किया था कि वो उसे बचाना चाहता है और उसके लिए कुछ भी कर सकता है। उसने पूरे समय दीप्ति को असुरक्षित महसूस होने नहीं दिया। देवेंद्र दीप्ति का अपहरण कर बागपत ले गया था। वहां उसने दीप्ति को यह बात अच्छी तरह समझा दी कि उसके बेस्टफ्रेंड ने ही उसका अपहरण करवाया है। और अपहरणकर्ता उसे नुकसान पहुंचा सकते हैं लेकिन वह उसे बचाएगा। जिसके बाद दीप्ति उसपर यकीन करने लगी‍ यहां तक घर वापस आने के बाद स्‍नैपडील की दीप्ति ने एसएसपी से कहा था कि वह देवेंद्र को न गिरफ्तार करें। क्‍योंकि उस वक्‍त वह उसको बचाने वाला मान रही थी। सच्‍चाई का खुलासा तो बाद में हुआ जब देवेंद्र पकड़ा गया। उसने बताया कि ये सब साजिश उसने रची थी ताकि वह दीप्ति के दिल में अपनी अच्‍छी जगह बना ले।

दीप्ति ने देवेंद्र को भइया कहा तो वह नाराज हो गया

पुलिस ने बताया गन्ने के खेत से जब देवेंद्र बाइक लेने के लिए गया तो दीप्ति ने देवेंद्र के पैर पकड़कर कहा था कि भइया! आप मत जाओ। आप चले गए तो ये लोग मुझे मार डालेंगे। हालांकि भइया कहने पर देवेंद्र कुछ नाराज भी हुआ था। बकौल एसएसपी, देवेंद्र ने रेलवे स्टेशन पर छोड़ते वक्त दीप्ति से कहा था कि वह अब उसे दोस्त समझेगी या दुश्मन। देवेंद्र का कहना है कि उसने कहा था कि दोस्त। देवेंद्र ने बताया कि उसकी ख्वाहिश दीप्ति के साथ शादी कर काठमांडू जाने की थी।

वैशाली मेट्रो स्टेशन से हुआ था अपहरण

बुधवार को वैशाली मेट्रो स्टेशन से ऑटो में सवार स्नैपडील की दीप्ति सरन का अपहरण कर लिया गया था। दीप्ति स्‍नैपडील में इंजीनियर है। दीप्ति को लेकर स्नैपडील ने #HelpFindDipti के नाम से एक सोशल मीडिया पर मुहिम शुरू की थी और लोगों से अपील की कि दीप्ति से जुड़ी किसी भी तरह की जानकारी मिलने पर ट्विटर पर डाइरेक्ट मैसेज के जरिये साझा किया जाए।

गाजियाबाद में घर के लिए निकली थी दीप्ति

24 वर्षीय दीप्ति शाम को गुड़गांव में स्थित स्नैपडील के ऑफिस से गाजियाबाद स्थित अपने घर के लिए निकली। रात करीब 8 बजे स्नैपडील की दीप्ति गाजियाबाद के वैशाली मेट्रो स्टेशन पर उतरी और हमेशा की तरह शेयर्ड ऑटो लेकर गाजियाबाद के बस स्टैंड की तरफ चल दी, जहां से उसके पिता या भाई उसे अपने साथ घर ले जाते थे।

अचानक बंद हुआ था दीप्ति का फोन

ऑटो में बैठने के बाद दीप्ति ने अपने घर पर फोन किया और बताया कि वह रास्ते में है। इसके बाद उसने बैंगलुरु में अपने दोस्त को फोन किया, जिसने पुलिस को कथित तौर पर बताया कि ऑटो ड्राइवर दीप्ति को जबरन किसी दूसरी जगह ले जा रहा था और दीप्ति उसे ऐसा करने पर डांट रही थी। इसके बाद से दीप्ति का फोन बंद है। दीप्ति के पिता नरेंद्र सरन ने बताया, ‘उसके दोस्त ने तुरंत फोन कर हमेशा सूचना दी, लेकिन जब हम उस जगह पहुंचे तो वहां कोई नहीं मिला।’

loading...
शेयर करें