IPL
IPL

स्‍पोर्टस कॉलेज : 211 ऐसे छात्रों को दिया दाखिला जो MERIT में नहीं थे

लखनऊ। स्‍पोर्टस कॉलेज लखनऊ में तीन सालों में 211 ऐसे छात्रों को दाखिला दे दिया जिनका मेरिट लिस्‍ट में नाम नहीं था। जो प्रारंभिक परीक्षा में ही अनुपयुक्‍त हो गए थे। गुरु गोविंद सिंह स्‍पोर्टस कॉलेज में चार साल के दरम्‍यान निर्धारित छात्रों की संख्‍या 345 से आठ छात्र अधिक रखे गए। 225 छात्रों ने फीस भी नहीं जमा की। जिसकी वजह से स्‍पोर्टस कॉलेज को दो करोड़ 54 लाख का नुकसान हुआ। यह खुलासा खेल निदेशक डॉ आरपी सिंह की उस रिपोर्ट से हुआ है जो शासन को भेजी जा चुकी है।

स्‍पोर्टस कॉलेज

स्‍पोर्टस कॉलेज के तत्‍कालीन प्रधानाध्‍यापक का खेल

यह खेल स्‍पोर्टस कॉलेज के प्रधानाध्‍यापक ने किया। सामाजिक कार्यकर्ता डॉ नूतन ठाकुर ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से उत्तर प्रदेश की प्रमुख सचिव खेल अनीता भटनागर जैन द्वारा जानबूझ कर गुरु गोविन्द सिंह स्पोर्ट्स कॉलेज लखनऊ के तत्कालीन प्रधानाध्यापक अनिल कुमार बनौधा को बचाने के लिए उनके खिलाफ कार्यवाही किये जाने की मांग की है। मुख्‍यमंत्री को लिखे पत्र में स्‍पोर्टस कॉलेज की अनयिमितताओं की जांच रिपोर्ट का भी हवाला दिया गया है।

स्‍पोर्टस कॉलेज 1

खेल निदेशक की रिपोर्ट  में सामने आया सच

मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में कहा गया है कि स्‍पोर्टस कॉलेज के सम्बन्ध में आर एन सिंह सचिव  उप्र स्पोर्ट्स कॉलेज सोसाइटी ने अपनी जाँच आख्या 10जून 2015 दी थी जिसमें अनियमितताओं को सामने लाया गया था। इस पर खेल निदेशक डॉ आर पी सिंह ने अपनी जाँच आख्या सात अगस्त 2015 द्वारा स्पष्ट किया था कि यहां चार वर्षों में अधिकतम निर्धारित 345 छात्र संख्या से 353 छात्र अधिक रखे गए और 225 छात्रों ने फीस जमा नहीं किया जिसके कारण कुल लगभग दो करोड़ 54 लाख की राजस्व की हानि हुई। नूतन ठाकुर ने प्रमुख सचिव खेल सुश्री अनीता भटनागर जैन द्वारा दो-दो रिपोर्ट के बाद जानबूझ कर कार्यवाही नहीं करने पर उनका उत्तरदायित्व निर्धारित करते हुए श्री बनौधा पर अनियमितता के लिए कार्यवाही की मांग की है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button