मुझे किसी को स्पष्टीकरण देने की जरूरत नहीं : हंसल मेहता

0

मुंबई। राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्मकार हंसल मेहता ने गुरुवार को कहा कि अपनी आगामी फिल्म ‘सिमरन’ को लेकर लेखक अपूर्व असरानी और फिल्म की अभिनेत्री कंगना रनौत के बीच चल रहे विवाद पर वह किसी को स्पष्टीकरण देना जरूरी नहीं मानते। कंगना को फिल्म ‘सिमरन’ की पटकथा की सह-लेखिका बताया गया है। माना जा रहा है कि खुद अभिनेत्री का यह दावा है और इससे फिल्म के लेखक असरानी नाखुश हैं।

असरानी ने गुरुवार को फेसबुक पर लंबी पोस्ट में लिखा कि यह लेखक के लिए अपमानजनक है कि क्रेडिट में उसका नाम किसी और सह लेखक से पीछे डाल दिया जाए। उन्होंने कहा कि उन्हें फिल्म में क्रेडिट दिए जाने को लेकर दुख नहीं है। इसके बजाए वह खुद को कंगना द्वारा छला गया महसूस कर रहे हैं। असरानी ने लिखा, “कई साक्षात्कारों में रनौत ने यह दावा किया कि ‘सिमरन’ के निर्देशक हंसल मेहता ने उन्हें सिर्फ एक लाइन की पटकथा के साथ यह फिल्म करने का प्रस्ताव दिया। वह कहती हैं कि उस समय कहानी डार्क और थ्रिलर थी और खुद उन्होंने इसे हल्का-फुल्का और मजेदार बना दिया।’

हंसल मेहता

हंसल मेहता स्पष्टीकरण देना जरूरी नहीं मानते

अपनी पोस्ट में असरानी ने हंसल मेहता को ‘बिना रीढ़ की हड्डी वाला’ कहा। उन्होंने कहा कि मेहता को दो में से एक काम करना होगा। या तो उनकी कहानी का समर्थन करें या उसे खारिज करें। इस विवाद पर मेहता ने प्रतिक्रिया देते हुए अपने ट्विटर पर लिखा, “मेरी रीढ़, वो जैसी भी है, कमजोर या मजबूत..यह सिर्फ मेरी फिल्म के लिए है और किसी बात के लिए नहीं। अगर मैंने इस बारे में नहीं बोलने का फैसला किया है तो यह मेरी फिल्म की खातिर है और जब मैं बोलूंगा तो सिर्फ अपनी फिल्म की भलाई के लिए बोलूंगा।”

मेहता ने कहा, “मैं किसी के ब्लैकमेल करने या सोशल मीडिया पर हल्ला मचाने पर नहीं बोलता हूं, जहां आपकी शराफत को आपकी कमजोरी माना जाता है और बातचीत की जगह आरोप-प्रत्यारोप ले लेते हैं। मैं किसी को भी स्पष्टीकरण देना जरूरी नहीं मानता, सिवाय उन सहकर्मियों के ..जो मेरे साथ प्यार, सम्मान के साथ काम करते हैं और फिल्में बनाने के प्रयास में मेरे सच्चे हितैषी हैं।”
उन्होंने कहा कि, हां वह ‘दोषी’ हैं। मेहता ने लिखा, “हां, मैं दोषी हूं इस बात का कि मैं उन लोगों को क्रेडिट देता हूं जो मेरी फिल्मों को खास बना देते हैं। और, हां मैं यह दोष एक नहीं हजार बार करूंगा। मुझे जिस भी नाम से बुलाना हो, बुलाएं। लेकिन, ध्यान आकर्षित करने और सहानुभूति पाने की हताशा में मेरी फिल्म को नुकसान नहीं पहुंचाएं।”

loading...
शेयर करें