हरक सिंह रावत रेप केस में सामने आया चौकाने वाला सच

0

हरक सिंह रावतदेहरादून। उत्तराखंड में बीजेपी नेता हरक सिंह रावत पर एक महिला ने रेप का आरोप लगाया था। जिसके बाद उसने अपना बयान बदल दिया।अब इस केस ने नया मोड़ ले लिया है। जांच होने पर कुछ चौकाने वाले तथ्य सामने आ रहे हैं।

हरक सिंह रावत मीडिया के सामने रोए

रेप केस में फसने के बाद हरक सिंह रावत जब मीडिया के सामने पहुंचे तो फूट-फूट कर रो पड़े। रोते-रोते हरक ने अपनी सफाई भी दे डाली। इस दौरान हरक इमोशनल कार्ड खेलने से नहीं चूके। बोले कि मैं सिपाही का बेटा हूं। 1977 से सड़कों पर संघर्ष करके यहां तक पहुंचा हूं। कहा कुछ लोग मुझे सामाजिक तौर पर बदनाम कर मेरा रा‌जनीतिक करियर बरबाद करना चाहते हैं।

मीडिया के जरिये जिस मोबाइल नंबर पर सीएम के पीएस से बात करने की बात आई है, उसकी आईडी पौड़ी के किसी शख्स की होने की बात सामने आ रही हैं।

बताया जा रहा है कि नंबर की सही बात आरोप लगाने वाली महिला के बयानों में ही आ पाएगी। पुलिस जांच में महिला का दिल्ली का पता तस्दीक न होने की बात भी आ रही है।

दिल्ली के सफदरजंग थाने में हरक सिंह रावत पर लगे दुराचार और फिर क्लीन चिट देने के मामले में देहरादून पुलिस ने अपनी जांच का दायरा बढ़ा दिया।

मुख्यमंत्री के निजी सचिव कमल सिंह रावत ने महिला और अन्य के खिलाफ साजिश के तहत अनर्गल और मिथ्या आरोप लगाने के आरोप में मुकदमा कायम कराया था।

महिला ने बयान बदलने के बाद मुख्यमंत्री हरीश रावत के पीएस को पूरे घटनाक्रम के लिए जिम्मेदार बताया था।

देहरादून पुलिस कई दिन के प्रयासों के बाद महिला द्वारा सफदरजंग थाने में दी गई तहरीर और 164 के तहत दिए गए दोनों बयानों की कापी पाने में कामयाब रही है। उसी के आधार पर विवेचना को आगे बढ़ाया गया है।

पुलिस के मुताबिक मीडिया के जरिये जिस मोबाइल नंबर पर महिला द्वारा मुख्यमंत्री के  पीएस से वार्ता करने की बात सामने आई है, पुलिस ने उसे भी तस्दीक कर लिया है।

उस नंबर की आईडी पौड़ी के एक शख्स की पाई गई है। अभी यह कहना मुश्किल है कि ये यह नंबर सही या गलत है। पुलिस का कहना है कि जांच में हकीकत सामने आ जाएगी।

loading...
शेयर करें