हरदुआगंज तापीय परियोजना पर भाजपा ने उठाये सवाल

लखनऊ। भाजपा ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से सवाल करते हुए कहा कि जिस हरदुआगंज तापीय विस्तार परियोजना का शिलान्यास उन्होंने किया है उसे कौन बना रहा है और उसकी निर्माण लागत को कौन वहन कर रहा है ?

प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक ने कहा कि मुम्बई इंवेस्टरमीट में मुख्यमंत्री की तरफ से कहा गया था कि मशहूर जापानी इलेक्ट्रानिक्स तोषिबा पावर 660 मेगावाट थरमल पावर पलांट हरदुआगंज में 3500 करोड़ के निवेश से बनायेगी। उन्होंने कहा हरदुआगंज परियोजना का सच क्या है ? यह जनता को पता चलना चाहिए। उन्होंने कहा कि निवेश के बड़े-बड़े दांवे करने वाले मुख्यमंत्री अखिलेश यादव यह तो बताये कि निवेश के लिए लगातार किये जा रहे सम्मेलनों के बाद निवेश की स्थिति राज्य में क्या है ? अभी तक निवेश के नाम पर कोरे आश्वासनों का ही सब्जबाग दिखा है। रायजिंग यूपी का नारा लगाने वालों लोगों के राज्य में निवेश तो नहीं हाँ यूपी में अपराध जरूर रायजिंग स्थिति में पहुंच गया।

महिला सुरक्षा पर सवाल

पार्टी ने महिला सुरक्षा को लेकर किये जा रहे दावों पर सवाल उठाया और कहा कि 45 मिनट तक एक बहन अपने साथ हुई घटना की रिपोर्ट दर्ज कराने की कोशिश करती रही किन्तु 1090 के साथ-साथ 100 नम्बर पर भी काल रिसीव नहीं हुई, थक हार कर जब सोशल साइट पर उसने अपने साथ हुई इस घटना का इजहार किया तो लोगों ने जाना। अपने साथ हुए इस हादसे की शिकायत पुलिस वेबसाइट पर की मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को ट्विटर पर अपने साथ हुए घटनाक्रम की जानकारी भी उसने दी। श्री पाठक ने कहा कि अखिलेश सरकार प्रचार में आगे है। यहीं कारण है कि जब स्वास्थ्य मंत्री को अपने ही लिये एम्बुलेंस की जरूरत पड़ती है तो वो 108, 102 मिलाते थक जाते है और उन्हें एम्बुलेंस नहीं मिल पाती है।

यह 80 या 85 प्रतिशत कहां से निकाला

पाठक ने कहा कि लखनऊ में जिस तरह से उपद्रवियों ने बवाल किया उससे एक बार फिर राज्य के अभिसूचना तंत्र की कार्यशैली को लेकर सवाल खड़े हुए। उन्होंने कहा कि पहले भी एक टिप्पणी के बाद लखनऊ के अति सुरक्षित जोन हजरतगंज तक में हथियार बंद लोगों ने प्रदर्शन किया था। मीडियाकर्मियों के कैमरे तोड़े गये। गाडि़यों को नुकसान पहुंचाया गया था। अब एक बार फिर बालागंज की घटना ने उन यादों को ताजा किया। उन्होंने कहा कि आत्ममुग्ध अखिलेश सरकार घटनाओं से सबक लेने की बजाय दूसरों पर ठीकरा फोड़ बचने की कावायद कर रही है। पार्टी ने सवाल किया है कि जो लोग 85 प्रतिशत, 80 प्रतिशत अपने दल के लोगों के जीत के दावे कर रहे हैं, वे यह तो बताये कि कितनी सीटों पर उम्मीदवार खड़े किये थे। इन लोगों ने 15-20 प्रतिशत छोड़ क्यों दिया ? उन्हें तो शत प्रतिशत की बात करनी चाहिए। दोनो दलों में कौन सही है जनता तय कर लेगी।

पुलिस प्रमुख का बयान

पार्टी ने कहा कि पंचायत चुनाव में निष्पक्षता का ढ़ोग करने में जुटी अखिलेश सरकार के पुलिस प्रमुख के बयान से स्पष्ट है कि इन पंचायत चुनाव में राज्य सत्ता के इशारे पर घटनाओं की देखी और अनदेखी की गयी। प्रवक्ता विजय बहादुर पाठक ने कहा कि सबूत जुटाने वाले सबूत की मांग कर रहे है, दुराचार के मामलों पर अनर्गल, अशोभनीय और हल्की टिप्पणियों के कारण नियंत्रण कर पाने में अखिलेश सरकार नाकामयाब हो रही है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button