हाथों की इन लकीरों से हो जाएं सावधान, कहीं तबाह न कर दें आपका वैवाहिक जीवन

सभी शादीशुदा लोग यही सोचते हैं कि उनका जीवन सुखमय और आनंदित हो. वह अपने जीवन को आनंदमय बनाने के लिए खूब प्रयास भी करते हैं. लेकिन ऐसा देख जाता है भरपूर कोशिश करने के बाद भी लोगों का वैवाहिक जीवन सुखी नहीं रहता है .आपको बता दें कमी उन लोगों में नहीं बल्कि हमारे ग्रह और नक्षत्रों में है.

शादीशुदा

ऐसी तो नहीं मस्तिष्क रेखा

हस्तरेखा विज्ञान के अनुसार, पुरुष के हाथ में हृदय रेखा और मस्तिष्क रेखा एक साथ होती है. लेकिन महिला में ये रेखा अलग-अलग हो तो पति-पत्नी के विचार कभी मेल नहीं खाते हैं. और घर में आए दिन लड़ाई झगडे होते रहते हैं. यह रेल की पटरी के समान होते हैं, साथ तो हैं लेकिन मिलते नहीं हैं. अगर स्त्री के मंगल व शुक्र ग्रह खराब हैं तो स्थिति और दयनीय हो जाती है.

हाथ तो नहीं है नरम

अगर पुरुष का हाथ नरम है और महिला का हाथ सख्त है तो ये स्थिती बिल्कुल सही नहीं रहता. इस तरह के जोड़े में महिला का स्वभाव सही नहीं होता है और चाहकर भी वैवाहिक सुख नहीं मिल पाता है.

विवाह रेखा कटी तो नहीं

अगर किसी पुरुष के हाथ में विवाह रेखा कटी हुई है और वह आगे चलकर फट भी रही है और साथ में रेखा द्विभाजित हो या नीचे की तरफ मुड़ जाती है तो शादीशुदा जेव्वान में कई तरह की समस्या आती हैं.और ऐसे लोगों की पूरी जिंदगी गिले-शिकवे में कट जाती है.

Related Articles