हार्ट ऑफ एशिया कॉन्फ्रेंस में नहीं होगी भारत-पाकिस्तान की वार्ता

0

नई दिल्‍ली। 3-4 दिसंबर को अमृतसर में होने वाले हार्ट ऑफ एशिया कॉन्फ्रेंस में भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय वार्ता नहीं होगी। पाकिस्तान की ओर से नवाज शरीफ के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज दो दिवसीय सम्मेलन में पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करेंगे।

हार्ट ऑफ एशिया कॉन्फ्रेंस

हार्ट ऑफ एशिया कॉन्फ्रेंस में पाकिस्‍तान की हालत पतली

पाकिस्‍तान के अखबार ‘डॉन’ की खबर के मुताबिक पाकिस्तानी विदेश कार्यालय के एक अधिकारी ने बुधवार को बताया, ‘अभी हमें उनकी ओर से कोई इच्छा नजर नहीं आ रही है, गेंद अब भारत के पाले में है, क्योंकि वे जानते हैं कि हम तैयार हैं, लेकिन हम नहीं जानते कि वे तैयार हैं या नहीं।

पाक ने नहीं रखा कोई प्रस्ताव

वहीं भारत ने बुधवार को स्पष्ट किया था कि उन्हें पाकिस्तान से द्विपक्षीय वार्ता का कोई प्रस्ताव नहीं मिला है। भारतीय विदेश मंत्रालय के पाकिस्तान से संबंधित मामलों के खंड के प्रमुख गोपाल बागले ने कहा कि पाकिस्तान ने अब तक द्विपक्षीय वार्ता का कोई प्रस्ताव नहीं रखा है।

पठानकोट हमले को लेकर नहीं थी बात

पिछले हार्ट ऑफ एशिया मंत्री स्तरीय सम्मेलन में पाकिस्तान और भारत ने सभी पुराने मुद्दों को लेकर व्यापक द्विपक्षीय वार्ता शुरू करने पर सहमति जताई थी, हालांकि इस साल जनवरी में पठानकोट में हुए आतंकी हमले के कारण वार्ता बहाल नहीं हो पाई।

अरुण जेटली

 

वित्‍त मंत्री करेंगे बैठक की अगुवाई

वित्त मंत्री अरुण जेटली शनिवार से शुरू हो रहे दो दिन के ‘हार्ट ऑफ एशिया’ सम्मेलन में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करेंगे। इसमें चीन, अमेरिका, रूस, ईरान और पाकिस्तान सहित 30 से अधिक देश भाग लेंगे. अस्वस्थ होने की वजह से विदेश मंत्री सुषमा स्वराज सम्मेलन में शरीक नहीं होंगी।

loading...
शेयर करें