हार्ट ऑफ एशिया में आने से पहले ही सरताज अजीज ने अलापा कश्मीर मुद्दे का राग

0

नई दिल्ली। पंजाब के अमृतसर में आज से हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन शुरू हो रहा है। इस सम्मेलन को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी संबोधित करेंगे। पीएम मोदी और अफगानीराष्ट्रपति के अलावा 14 देशों के विदेश मंत्री इस सम्मेलन में उपस्थित रहेंगे।

हार्ट ऑफ एशिया

हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन में पाकिस्तान भारत के बीच द्विपक्षीय वार्ता नहीं

काफी वक्त से भारत और पाकिस्तान के बीच बहुत तनाव का माहौल देखने को मिल रहा है। उड़ी अटैक, सर्जिकल स्ट्राइक और हाल ही में हुए नगरोटा अटैक के बाद से दोनों देशों के बीच सब कुछ ठीक नहीं है। ऐसे माहौल में हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन में शामिल होने कल नवाज शरीफ के सलाहकार सरताज अजीज भी यहां आ रहे हैं। हालांकि भारत और पाकिस्तान के बीच कोई द्विपक्षीय वार्ता नहीं होगी। इस्लामाबाद में हुए पिछले हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन के अवसर पर दोनों देशों के बीच वार्ता शुरू करने पर सहमति हुई थी, लेकिन इस वर्ष जनवरी में पठानकोट हमले के कारण यह संभव नहीं हो सका, कश्मीर के घटनाक्रमों और उरी में सैनिक शिविर पर हमले के बाद दोनों देशों के संबंधों में और अधिक तनाव आ गया। 

सरताज अजीज ने एक चैनल के साथ बातचीत में कहा था कि ‘अगर भारत चाहेगा, तो पाकिस्तान हार्ट ऑफ एशिया कॉन्फ्रेंस के दौरान बातचीत करने के लिए तैयार है,’ लेकिन बातचीत में उन्होंने कश्मीर का राग फिर अलापा। उन्होंने कहा, ‘ कि दोनों देशों के बीच जो अभी के हालात हैं, वह पहले भी रहे हैं। दहशतगर्दी का मसला एक है, लेकिन बुनियादी मसला कश्मीर का है। कश्मीर मसले पर नतीजे तक पहुंचने वाली बात करना चाहते हैं।’

 

loading...
शेयर करें