‘हिट एंड रन’ केस पर अब सलमान खान क्या कहना चाहते हैं

0

मुंबई। लगता है कि इस जन्म में सलमान खान को ‘हिट एंड रन’ मामले से मुक्ति नहीं मिलेगी। एक बार फिर सलमान पर हिट एंड रन केस की तलवार लटकने लगी। कई सालों से चल रहे इस केस का फैसला कुछ ही दिन पहले सलमान के पक्ष में हुआ था। लेकिन लगता है कि महाराष्ट्र सरकार को ये बात रास नहीं आई। हाइकोर्ट के फ़ैसले के ख़िलाफ़ महाराष्ट्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में अपील दायर की थी। इसी के बाद सलमान ख़ान ने सुप्रीम कोर्ट में कैविएट याचिका दाखिल की है। सलमान ने अपनी याचिका में कहा है कि महाराष्ट्र सरकार की अपील पर सुनवाई या फ़ैसले से पहले उनकी बात भी सुनी जाए।

सलमान खान

सलमान खान के खिलाफ महाराष्ट्र सरकार ने SLP दायर की

सलमान को 2002 के हिट एंड रन’ मामले में बरी करने के बंबई हाई कोर्ट के आदेश चुनौती देने के लिए महाराष्ट्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में स्पेशल लीव पिटिशन दायर किया है। विधि एवं न्याय विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि SLP दायर करने के लिए सरकारी वकील को आदेश जारी किए जा चुके हैं। अधिकारी ने कहा, ‘सरकार हाई कोर्ट के फैसले को गुण दोष के आधार पर चुनौती देगी।’

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पहले ही यह ऐलान कर चुके हैं कि राज्य सरकार सलमान खान को सभी आरोपों से बरी करने के हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती देगी। विधि विभाग के अधिकारी के मुताबिक, सरकार हाई कोर्ट के आदेश को 90 दिन के अंदर चुनौती दे सकती है। बंबई हाई कोर्ट के जस्टिस ए. आर. जोशी ने पिछले साल 10 दिसंबर को 50 वर्षीय अभिनेता को सितंबर 2002 के ‘हिट एंड रन’ मामले के सभी आरोपों से बरी कर दिया था।

अधिकारी ने कहा कि सत्र अदालत ने दिवंगत पुलिस कॉन्स्टेबल रवींद्र पाटिल के बयान को स्वीकार किया था, जबकि हाई कोर्ट ने अपने आदेश में उसके बयान को खारिज कर दिया। जस्टिस जोशी ने अपने फैसले में पुलिस जांच की खामियों और खून के नमूने लेने में देर करने के बाबत बताया था। इससे पहले मई 2015 में, सत्र अदालत के न्यायाधीश डी. डब्ल्यू देशपांडे ने खान को मामले में दोषी ठहराते हुए पांच साल की जेल की सजा सुनाई थी।

loading...
शेयर करें