हिन्दूवादी नेता अरुण माहौर की हत्या के बाद भााषण देने वाले नेता को जमानत

0

आगरा। हिन्दूवादी नेता अरुण माहौर की हत्या के बाद भड़काऊ भाषण मामले में नामजद अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नेता शशांक चौधरी मंगलवार को कोर्ट मे सरेंडर कर दिया। मामले मे पूर्व भाजपा नेत्री कुंदनिका शर्मा को पहले ही जमानत मिल चुकी है लेकिन उन्हे भी कोर्ट ने जमानत दे दी। इसके बाद उनके समर्थकों ने उन्हे कंधों पर उठाकर जोरदार नारेबाजी की।

हिन्दूवादी नेता अरुण माहौर की हत्या के बाद भााषण देने वाले नेता को जमानत

छात्र नेता ने हिन्दूवादी नेता अरुण माहौर की हत्या के बाद दिया था भाषण

हिन्दूवादी नेता अरूण माहौर की हत्या के बाद हुई जनसभा मे भड़काऊ भाषण का देने का आरोप लगाते हुए पुलिस और प्रशासन ने मुकदमा दर्ज किया था। इसके बाद पुलिस ने गिरफ्तारी के प्रयास शुरू किये तो पूर्व भाजपा नेत्री कुंदनिका शर्मा ने कोर्ट मे सरेंडर कर जमानत पा ली थी। मंगलवार को इसी मामले मे नामजद अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नेता शशांक चौधरी ने भी कोर्ट मे सरेंडर कर दिया। इसके बाद वकीलों ने कोर्ट के सामने कुंदनिका शर्मा को मिली जमानत को आधार मानते हुए तर्क पेश किये तो कोर्ट ने उन्हें जमानत दे दी। जैसे ही कोर्ट ने जमानत दो शशांक चौधरी के समर्थकों मे खुशी की लहर दौड़ पडी।

इंसाफ के लिए लड़ेंगे लड़ाई

जमानत पाने के बाद अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के नेता शशांक चौधरी अपने समर्थकों के साथ दीवानी चौराहा स्थित भारत माता की प्रतिमा पर पहुंचे और उनकी प्रतिमा पर माल्यापर्ण किया। साथ ही उन्होंने कहा कि प्रशासन ने मामले मे भाजपा और हिन्दूओं की आवाज बुलंद करने वालों पर नकेल कसने के लिए मुकदमे का सहारा लिया लेकिन वे हार मानने वाले नही है। आगे भी इंसाफ पाने के लिए इसी तरह से लड़ते रहेंगे।

एबीवीपी छात्र नेता का बयान

इस मामले मे पहले जिला प्रशासन ने पहले तीन लोगों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज किया था और फिर उसी मुकदमे मे करीब 15 लोगों के नाम और जोड़े गये ताकि माहौल गर्माने से रोका जा सके लेकिन अब तक मामले मे दो लोगों को जमानत मिल चुकी है। लिहाजा इस मामले वांछित चल रहे बाकी लोगों को भी जमानत मिलने की राह आसान हो गयी है।

loading...
शेयर करें