ना माँगू सोना चाँदी, मैं तो बस माँगू हीरा रे – जानिए क्यों ?

0

आखिर किसका सपना नहीं होता कि हमारे पास भी हीरों के गहने हों? आजकल लोग और खासकर महिलाएं जब गहनों के बारे में सोचते हैं तो वो सिर्फ सोना या चांदी ही नहीं बल्कि हीरे जड़ित गहनों को भी अपनी सोच में शामिल किये हुए हैं। इस बात से समझा जा रहा है कि लोगों की गहनो की पसंद सिर्फ सोने और चांदी तक ही सीमित नहीं नहीं रह गई है, बल्कि हीरे भी उनकी पसंद में शुमार हो गए हैं। इसके साथ ही पीले धातू के पिछले कुछ सालों में भाव बढ़ जाने की वजह से भी लोग हीरे खरीदने को भी अपना विकल्प बना रहे हैं।

हीरों के गहने

हीरों के गहने और सोने के जेवरात महिलाओं की पसंद

वर्त्तमान समय में हीरे की मांग में इज़ाफ़ा आने की वजह से हीरे कि चमक जैसे बढ़ते ही जा रही हैं। देखा गया हैं कि गृहणियां निवेश को ध्यान में रखकर सोना खरीदती रही हैं। मगर मौजूदा काल में काफी महिलाएं काम काजी बन गई हैं और वे फैशन के हिसाब से और रोज़मर्रा मैं पहने जाने वाली चीज़ों को ध्यान में रखते हुए गहने खरीदने लगी हैं। इसी प्रकार हीरों से बने गहनों में तरह तरह कि लुभावनी डिजाईन भी लोगों को अपनी और आकर्षित करने में सक्रिय भूमिका अदा कर रही हैं। लोगों का रुझान भारी भरकम सोने के गहनों से हटकर स्टाइलिश और कम दामों में ख़रीदे जाने वाले गहनों कि तरफ बढ़ गया है।

हीरों के गहने

इसलिए सोने कि हलकी चूड़ियां, अंगूठी, एअरिंग और पेन्डेन्ट की काफी मांग है। इसी प्रकार लोग प्लैटिनम के ज़ेवरों में हीरे जडा रहे हैं। डायमंड ज्वेलरी की शुद्धता और अलहदा डिजाईन भी लोगों को अपनी और आकर्षित कर रहा है। हीरे की माँग बढ़ने के कारण हैं ग्राहकों का हीरे की तरफ बढ़ता रुझान। सोने और पल्टिनम में हीरे जड़ित ज़ेवरों की खासी मांग हैं। लोग अपनी सोने और चांदी खरदने की परंपरागत सोच से हटकर हीरे खरीदने की सोच को भी काफी तवज्जो दे रहे हैं। हीरे की बढ़ती मांग को कॅश करने के लिए कंपनियां इसके कई नए कलेक्शन्स और ब्रांड को भी मार्किट में लाने के लिए पूरी तरह से सुसज्ज होती दिख रही हैं। डायमंड जेवरातों के काफी विज्ञापन भी टीवी पर देखे जा सकते हैं। भारत में शादियों में सोने का काफी महत्व है।

हीरों के गहने

आजकल भारतीय विवाहों में भी लोग कुछ हटकर सोच रहे हैं और यहां पर भी हीरों की हलकी-फुलकी और सुंदर ज्वेलरी का ट्रेंड देखा जा सकता है। इसी प्रकार छोटे हीरों और छोटे डायमंड जड़ित गहनों की भी काफी मांग है। हीरा जड़ित आभूषणों की सुंदरता तो देखते ही बनती हैं। आज कल हीरा एक निवेश का जरिया भी बनता जा रहा है। खासकर सॉलिटेयर डायमंड को निवेश के रूप में भी देखा जा रहा है। हीरे की डिमांड और इसकी बढ़ती कीमतें तो इसे निवेश का अच्छा जरिया बना ही रही हैं। इसके अलावा आप डायमंड खरीदते समय इसकी बायबैक पालिसी भी ले सकते हैं जिसकी वजह से हीरा बेचने में आपको कोई परेशान आड़े नहीं आएगी। निश्चलनिकरण के सोने चांदी खरेदी पर परिणाम देखे गए। निश्चलनिकरण या demonetization का खासा असर भी लोगों के सोना और चांदी खरीदने के फैसले पर पड़ा है।

हीरा पहनने के शौक़ीन, हीरों को खरीदते समय कैसे परखे असली हीरा? हीरे के कैरेट्स, कटिंग, और कलर क्लैरिटी देखकर असली हिरे की पहचान की जा सकती है। हीरा पहचानने की एक और खासियत है की यह नीचे गिरने से कभी टूटता नहीं है। हीरा काफी कठोर भी होता है और असली हीरे का प्रकाश अँधेरे में और निखरकर सामने आता है। हीरा लेते समय दुकानदार से इसका पका बिल ज़रूर बनवाएं और हीरे को प्रमाणित करने वाली कंपनियों के नाम भी ज़रूर ध्यान से देख लें। हीरा लगभग २३ रंगों में आता है। हीरे को अगर थोड़ा गरम किया जाए तो उसका रंग थोड़ा हल्का होने लगता है मगर ठंडा होने पर उसका असली रंग वापिस आ जाता है। हीरे न सिर्फ बड़े, बूढ़े और महिलाएं को ही लुभा रहे हैं बल्कि नौजवानो पर छाई हुई हीरे की क्रेज़ भी देखते ही बनती है।

हीरों के गहने

सगाई की अंगूठियों में भी आजकल हीरे की चमक देखी जा सकती है। अलग-अलग शेप और साइज के कट के साथ ही हीरों के कलर, क्लैरिटी, पोलिश और कैरेट्ज जैसी बातों पर भी युवा खास ध्यान दे रहे हैं। युवा पीढ़ी डायमंड ज्वेलरी को ट्रेंडी और कूल मान रही है। आज की महिलाएं भी डायमंड ज्वेलरी की तरफ खिंची जा रही हैं। डायमंड ज्वेलरी में फैंसी कट के आभूषणों की खासी मांग है। फैंसी कट से बनी चूड़ियां, पेन्डेन्ट, बालियां और अंगूठियों की शोभा भी देखते ही बनती है। डायमंड ज्वेलरी के आभूषणों में नीलम, पन्ने और रूबी में अलग अलग रंग की चीज़ें मौजूद हैं और आजकल के युवा इन रंगों पर भी आकर्षित होकर हीरे के आभूषणों की तरफ खिंचे जा रहे हैं।

हीरे की सुंदरता और चमक किसीको भी अपनी और आकर्षित करने के लिए काफी है। हीरे के आभूषण पहनने की ललक हरेक को इनकी और खींचने में कामयाब हो रही है।

loading...
शेयर करें