नोटबंदी के बाद पुराने नोट से इस राज्य में खरीदा गया 8000 किलो सोना

0

हैदराबाद मेंनई दिल्ली। नोटबंदी के बाद से ही पूरे देश में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) और आयकर विभाग की कार्रवाई जारी है। ईडी की जांच में हैदराबाद में ही 2700 करोड़ रुपए के सोने के बिस्किट की खरीदारी का मामला सामने आया है। ये खरीदारी नोटबंदी के बाद की गई है। ईडी की जांच में इस बात का भी खुलासा हुआ है कि ये सोना 500 और 1000 रुपए के पुराने नोटों से खरीदा गया है।

हैदराबाद में सोने की हुई बड़ी खरीदारी

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 8 से 30 नवंबर के बीच यहां 8000 किलोग्राम सोने का आयात किया गया और ऐसे में पूरा सोना बिकना सवाल खड़े करता है। इतना ही नहीं, 1 दिसंबर से 10 दिसंबर तक 1500 करोड़ रुपए के सोने का फिर आयात किया गया। नोटबंदी के बाद से सर्राफा बाजार में खासी तेजी आई है और हैदराबाद के सर्राफा कारोबारियों औ ज्वैलर्स के पास लोग धड़ल्ले से सोना खरीदने पहुंचने लगे।

ईडी ने आयकर अधिकारियों और शमशाबाद एयरपोर्ट के कस्टम्स विभाग से आंकड़े जुटाए। ईडी और आयकर अधिकारियों ने कहा कि अगर सोने के कारोबारियों ने 8 नवंबर के बाद बैन किए गए नोट लेकर सोना बेचा है तो उन्होंने नियमों का उल्लंघन किया है।

पुराने नोट से सोना खरीदने वालों की बढ़ेगी मुश्किल

ईडी के अधिकारियों को हैदराबाद के मुसद्दीलाल ज्वेलर्स में सोने की बिक्री में गड़बड़ी नजर आ रही है। हालांकि, मुसद्दीलाल ज्वेलर्स का दावा है कि उसने अडवांस पेमेंट लेकर 8 नवंबर की रात तक 5,200 ग्राहकों को सोने की बिक्री की थी। उनका दावा है कि उन्होंने 100 करोड़ रुपए का सोना बेचा। ईडी के सूत्रों ने बताया कि मुसद्दीलाल ज्वेलर्स ने यह सारा पैसा चार सर्राफा कारोबारियों के बैंक खातों में ट्रांसफर कर दिया, लेकिन ईडी को शक है कि 3 घंटे के इतने कम समय में ज्वेलर ने 100 करोड़ रुपए का सोना बेचा।

ईडी अधिकारियों को शक उस समय और गहरा गया जब मुसद्दीलाल की दुकान की सीसीटीवी देखी। दुकान से सीसीटीवी फुटेज से छेड़छाड़ की कोशिश की गई। जब आसपास की दुकानों की सीसीटीवी फुटेज जांची गई तो मुलद्दीलाल ज्वेलर्स में ग्राहकों के घुसने का कोई रिकॉर्ड नहीं मिला।

loading...
शेयर करें