हो गया खेल, प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना का नहीं मिला अच्छा रिजल्ट

0

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री गरीब कल्‍याण योजना का आगाज जोरशोर से हुआ था। लेकिन जो खबरें आ रही हैं उसके मुताबिक यह योजना फ्लॉप साबित हो रही है। जो नतीजे सामने आए हैं उससे तो यही लग रहा है। खुद वित्‍त मंत्रालय ने भी यही माना है।

प्रधानमंत्री गरीब कल्‍याण योजना

प्रधानमंत्री गरीब कल्‍याण योजना ने नहीं दिए आशाजनक परिणाम

वित्‍त मंत्रालय ने जो जानकारी दी है उसके अनुसार अभी तक सिर्फ 5000 करोड़ की काली कमाई का पता चला है। राजस्व सचिव हसमुख अढ़िया का कहना है कि महज 5000 करोड़ रुपये की ही जानकारी देने की मुख्य तौर पर दो वजह हैएक, जहां योजना शुरु होने के पहले ही लोग अलगअलग खातो में पैसा जमा करा चुके थे, वहीं लोगों को लगा कि तीन चौथाई रकम ब्लॉक हो जाएगी।  

लोगों को लुभा नहीं पाई स्‍कीम

योजना के तहत विकल्प था कि यदि बैंक में रकम जमा कराने के बाद कोई व्यक्ति गरीब कल्याण योजना में भाग लेने के लिए स्वेच्छा से आता है तो उसे जमा करायी गयी कुल रकम पर 49.9 फीसदी की दर से टैक्स जमा करना होगा। साथ ही कुल रकम का एक चौथाई बगैर ब्याज वाले 4 साल की जमा योजना में डाली जाएगी जबकि बाकी रकम तुरंत मिल जाएगी।

सरकार की कमाई पर डालें एक नजर

दूसरे शब्दों में कहें तो 1 करोड़ रुपये की अघोषित आय में 50 लाख रुपये सरकार के पास चला जाएगा। बाकी 25 लाख रुपये 4 साल बाद मिलेंगे, जबकि बाकी 25 फीसदी तुरंत। 5000 करोड़ रुपये की रकम की जानकारी का मतलब ये हुआ कि सरकार को टैक्स से महज 2500 करोड़ रुपये की कमाई हुई, जबकि उम्मीद लाख करोड़ रुपये से भी ज्यादा की थी. दूसरी ओऱ चार साल तक 1250 करोड़ रुपये बैंक में जमा कराने पर करीब 350 करोड़ रुपये की अतिरिक्त कमाई होगी. गरीबों के कल्याण के लिए इतनी रकम कुछ खास फायदा नहीं देने वाली।

18 लाख लोगों की हुई पहचान

करीब 18 लाख ऐसे लोगों की पहचान की गयी जिनकी ओर से बैंक में जमा करायी गयी नगदी और उनके आयकर रिटर्न मेल नही खा रहे थे. इन सभी को ऑनलाइन जवाब देने को कहा गया। कुल 9.72 लाख लोगो ने अपने 13.33 लाख खातों में जमा करायी गयी 2.89 लाख करोड़ रुपये की रकम के बारे में ब्यौरा दिया गया है। इन सभी जवाब की पड़ताल की गयी है औऱ संतोषजनक जवाब होने की सूरत में कई कार्रवाई नहीं होगी। अब 5.68 लाख नए मामलों की पहचान की गयी है जिनसे ऑनलाइन जवाब मांगा जाएगायही नही 1.58 लाख लोगों के ऐसे 3.71 लाख खातों की पहचान की गयी है जिन्होंने पहले संतोषजनक जवाब नहीं दिय़ा था।  इसी सब को देखते हुए ऑपरेशन क्लीन मनी का दूसरा चरण शुरु किया जा रहा है जिसके तहत पहचान किए गए लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

loading...
शेयर करें