अलकायदा के इंडिया चीफ की गिरफ्तारी के बाद 10 युवक IB के रडार पर

asif-alquaida

मुरादाबाद। अलकायदा के इंडिया चीफ मोहम्मद आसिफ और संभल के जफर मसूद की गिरफ्तारी के बाद संभल पर खुफिया एजेंसियों ने निगाहें गढ़ा दी हैं। आसिफ के संपर्क में आए करीब दस युवकों को रडार पर लिया गया है। आईबी की टीम इन्हें पूछताछ के लिए कभी भी उठा सकती है।

दरअसल संभल का आतंक से नाता करीब दो दशक पहले उस वक्त उजागर हुआ था जब संभल का एक युवक पाकिस्तान जाकर आईएसआई के संपर्क में आ गया था। इसके बाद वर्ष 2002 में जब लालकिला में ब्लास्ट हुआ तो भी संभल के पांच युवकों को खुफिया एजेंसियों ने उठाया था। हालांकि बाद में ये सभी कोर्ट से बरी हो गए थे।

ये भी पढ़े : अलकायदा का भारत का मुखिया गिरफ्तार

इस बार मोहम्terroristमद आसिफ की गिरफ्तारी और उसके बाद मसूद के पकड़े जाने से संभल फिर से आईबी की रडार पर है। आईबी की टीम ने आसिफ से संपर्क रखने वाले दस लोगों को निगरानी में लिया है। आईबी की एक उच्चस्तरीय टीम संभल में कैंप कर रही है। आईबी की कोशिश है कि पिछले वर्षों में आसिफ से नाता रखने वाले हरेक शख्स को फिल्टर किया जाए।

 

आतंकी संगठनों की बढ़ती पैठ को देखते हुए आईबी ने पश्चिमी यूपी में अपने सेटअप की नए सिरे से समीक्षा करने का फैसला किया है। कई युवक ऐसे हैं जिन्हें आईबी मानीटर तो कर रही है लेकिन बिना किसी ठोस सुबूत के हाथ नहीं डालना चाहती। अमरोहा का आतंक से नाता आठ साल पहले ही उजागर हो चुका है। मुरादाबाद में भी आतंकियों के ठहरने के कई मामले सामने आ चुके हैं।

IB का मानना है कि जिस तेजी से आतंकी संगठन पश्चिमी यूपी में अपनी जड़े जमा रहे हैं उससे खुफिया एजेंसियां परेशान हैं। संभल में अलकायदा की जड़े पुख्ता हो चुकी हैं। आसिफ अकेला नहीं है, उसके पीछे स्लीपिंग सेल्स की पूरी फेहरिस्त है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button