अफगानिस्तान छोड़कर भारत पहुंचे 129 लोग, रोते हुए महिला ने दर्द किया बयां

नई दिल्ली: भारत देश जब 15 अगस्त को अपनी आजादी का 75वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा था तो वही दूसरी तरफ अफगानिस्तान पर पूरी तरह से तालिबान का कब्जे में हो गया। तालिबानियों ने रविवार को अफगान की राष्ट्रीय राजधानी काबुल पर धावा बोल दिया। वहां के राष्ट्रपति भवन समेत कई बड़े क्षेत्रों को अपने कब्जे में कर लिया है। अफगान में डरे सहमे करीब 129 लोग भारत के एयर इंडिया विमान से नई दिल्ली पहुंचे हैं। इनमें पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई के चचेरे भाई और पूर्व सांसद जमीन करजई जैसे कई लोग शामिल हैं।

करीब 129 अफगान यात्री नई दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उतरते। हवाई अड्डे पर उतरते ही अफगानिस्तान के पूर्व सांसद जमील करजई ने पत्रकारों को बताया कि, ‘जब मैं वहां से भागा हूं तो वहां के क्या हालात होंगे आप समझ सकते हैं। अशरफ गनी का टीम गद्दार निकला है उन्होंने अफगान के लोगों के साथ गद्दारी की है। इस गलती लोग उन्हें माफ नहीं करेंगे।’

महिला ने दर्द किया बयां

129 लोग में से एक महिला काबुल से दिल्ली पहुंची तो रोते हुए अफगानिस्तान के हालातो को बता रही थी। महिला ने कहा, ‘मुझे भरोसा नहीं हो रहा है कि दुनिया ने अफगानिस्तान को छोड़ दिया है। हमारे दोस्त मारे जा रहे हैं। वे (तालिबान) हमें मारने जा रहे हैं। हमारी महिलाओं को कोई और अधिकार नहीं मिलने वाला है।’

129 यात्री दिल्ली पहुंचे

रविवार को काबुल से 129 लोग नई दिल्ली आने वाली फ्लाइट में दिल्ली पहुंचे हैं। काबुल से दिल्ली पहुंचे बेंगलुरु के बीबीए के छात्र अब्दुल्ला मसूदी ने अफगाने का आंखों देखा हाल बयां करते हुए कहा, लोग बैंकों की ओर दौड़ पड़े। मैंने कोई हिंसा नहीं देखी लेकिन मैं यह नहीं कह सकता कि कोई हिंसा नहीं हुई होगी। मेरा परिवार अफगानिस्तान में है, मेरी उड़ान पूर्व नियोजित थी। काबुल से आज कई लोग निकले है।

https://twitter.com/ANI/status/1426930996469932032?t=StHTed_iZu3IsYQZhJoXEA&s=19

Related Articles