मोदी की सख्ती के बाद स्टेट बैंक का कर्ज हुआ सस्ता

0

नई दिल्ली। नए वर्ष की पूर्व संध्या पर पीएम नरेन्द्र मोदी की सख्ती असर दिखाने लगी है। भारतीय स्टेट बैंक ने अपना कर्ज सस्ता करने की घोषणा कर दी है। प्रधानमंत्री मोदी की शनिवार को ही बैंकों को नसीहत दी थी। नववर्ष की पूर्व संध्या पर पीएम मोदी ने बैंकों से सही फैसले लेने का आग्रह किया था। इसका असर नए साल के पहले दिन की भारतीय स्टेट बैंक पर साफ साफ दिखा। भारतीय बैंक भारतीय स्टेट बैंक ने अपनी प्याज दर 90 बेसिस पॉइंट यानी दशमल नौ फीसदी घटाई है। इस प्रकार बैंका का सभी तरह का कर्ज सस्ता हो गया।
वर्तमान ब्याज दरें
वर्तमान में भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) की आवास ऋण की ब्याज दरें 9.10 फीसदी हैं। वहीं कार लोन 9.60 फीसदी पर वह दे रहा है। अब यह दोनों ब्याज दरें 0.90 फीसदी कम हो जाएंगी।
सख्ती का असर
भारतीय रिजर्व बैंक बैंकरों से लगातार ब्याज दरें घटाने के लिए कह रहा था, लेकिन उनके कानों पर जू नहीं रेंग रही थी। लेकिन शनिवार को प्रधानमंत्री ने बैंकों से सख्त लहजे में सही दिशा में काम करने को कहा। इसका असर रातोरात यह हुआ कि भारतीय स्टेट बैंक में अपनी मार्जिनल कॉस्ट ऑफ लेंडिंग रेट यानी एमसीएलआर को 8.9 फीसदी से घटाकर 8 फ़ीसदी कर दिया है। इसका मतलब हुआ कि बैंक का हर तरह का लोन .9 फीसदी सस्ता हो गया है।
नई दरें तुरंत लागू
यह घटी दर न सिर्फ नए लोन लेने वालों पर लागू होगी, बल्कि पुराने कर्जदारों को भी इसका फायदा मिलेगा। उम्मीद है कि मोदी की सख्ती के बाद बाकी बैंक भी इसी दिशा में कदम उठाएंगे।
बढ़ सकती है कर्ज की मांग
स्टेट बैंक के ब्याज दरों में कटौती से उम्मीद है कर्ज की मांग में बढ़ोत्तरी होगी। नोट बंदी के बाद से बैंक के पास भारी मात्रा में रुपए आ गया है। बैंकों को इस पर जमा करने वालों को ब्याज देना ही पड़ रहा है। ऐसे में बैंक भी चाहते हैं कि कर्ज की मांग बढ़े जिससे उन को ब्याज देने की जगह ब्याज कमाने का मौका मिले।

loading...
शेयर करें