पैसा रखें रेडी, आईपीओ आने को हैं तैयार

0

मुम्बई। देश के दोनों शेयर बाजार बीएसई और एनएसई लिस्टिंग की तैयारी में है। सब कुछ ठीक चला तो एनएसई का शेयर बीएसई में और बीएसई का शेयर एनएसई में कारोबार करता नजर आएगा।
नए साल में कई दमदार कंपनियों के आईपीओ आने वाले हैं। इनमें मुम्बई शेयर बाजार (बीएसई), एवेन्यू सुपरमाट्र्स (डी-मार्ट), हाउजिंग ऐंड अर्बन डिवेलपमेंट कॉर्पोरेशन (हुडको), एस्टर डीएम हेल्थकेयर, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई), हिंदुजा लीलैंड फाइनैंस, कॉन्टिनेंटल वेयरहाउजिंग, सेंट्रल डिपॉजिटरी सर्विसेज लिमिटेड (सीडीएसएल), बार्बेक्यू नेशन और एवी फाइनैंस जैसी कंपनियां शामिल हैं। इन्वेस्टमेंट बैंकरों ने बताया कि बजट के बाद कंपनियां शेयर बाजार से पैसा जुटा सकती हैं।
14 को मंजूरी, 10 लाइन में
सेबी ने 8,020 करोड़ रुपये की 14 आईपीओ को मंजूरी दी है, जबकि और 10 कंपनियों ने 15,000 करोड़ रुपये जुटाने के लिए ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (डीआरएचपी) उसके पास जमा कराया है। दर्जन भर और कंपनियां डीआरएचपी फाइनल करने के करीब हैं। पिछले साल 26 कंपनियों ने 26,500 करोड़ रुपये जुटाए थे। 2010 के बाद पहली बार इतना पैसा इस रास्ते से कंपनियों ने जुटाया। एशिया का सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज बीएसई और देश की सबसे प्रॉफिटेबल सुपरमार्केट चेन की मालिक एवेन्यू बजट के तुरंत बाद बाज़ार में आ सकती हैं। बीएसई 1,200 करोड़ रुपये और एवेन्यू 2,000 करोड़ रुपये जुटाने की तैयारी में है। डीमार्ट जाने-माने निवेशक और राकेश झुनझुनवाला के गुरु राधाकृष्ण दमानी की कंपनी है।
पीछे आए आईपीओ से मिला फायदा
आईसीआईसीआई सिक्यॉरिटीज में एग्जिक्युटिव डायरेक्टर अजय सर्राफ ने बताया कि पिछले साल जो आईपीओ आए थे, उनसे लोगों ने काफी पैसा बनाया। इसलिए इस साल आने वाले आईपीओ में भी लोग निवेश करेंगे। अच्छी कंपनियों के शेयरों की काफी मांग है और निवेशकों के पास फंड की कमी नहीं है।
18 आईपीओ इश्यू भाव से ऊपर
पिछले साल आई 26 आईपीओज में 18 इशू प्राइस से ऊपर ट्रेड कर रहे हैं। इनमें से चार- इंफीबीम, क्वेस कॉर्प, अडवांस्ड एंजाइम टेक्नॉलजीज और महानगर गैस के शेयर इशू प्राइस से दोगुनी कीमत पर मिल रहे हैं। जबकि इसबीच सेंसेक्स और निफ्टी के लेवल में ज्यादा बदलाव नहीं हुआ है। इन्वेस्टमेंट बैंकरों ने बताया कि इन कंपनियों के मालिक और इनमें निवेश करने वाले प्राइवेट इक्विटी इन्वेस्टर्स आईपीओ की मांग का पता लगाने के लिए रोडशो कर रहे हैं। सेंट्रम ब्रोकिंग के सीईओ संदीप नायक ने कहा कि अमीर और संस्थागत निवेशक बजट का इंतजार कर रहे हैं। इकॉनमी की हालत का पता लगाने के लिए आर्थिक आंकड़ों पर भी उनकी नजर है। नायक ने कहा कि ये लोग आईपीओ में निवेश करते रहेंगे क्योंकि लॉन्ग टर्म में भारत की ग्रोथ तेज बनी रहेगी। छोटे निवेशक भी आईपीओ में पैसा लगाएंगे।
एस्टर डीएम हेल्थकेयर भारत और पश्चिम एशिया में अस्पताल चलाती है। वह आईपीओ से 1,600 करोड़ रुपये जुटाने की तैयारी कर रही है। सरकारी फर्म हुडको 10 प्रतिशत शेयर बेचकर 1,500 करोड़ रुपये जुटाने जा रही है। मुंबई की लॉजिस्टिक्स कंपनी कॉन्टिनेंटल वेयरहाउजिंग 1,000 करोड़ रुपये की आईपीओ लाएगी। एनएसई ने 10,000 करोड़ रुपये की आईपीओ के लिए डीएचआरपी फाइल किया है। जयपुर की एयू फाइनैंशरों ने 1,800 करोड़ रुपये के आईपीओ के लिए चार इन्वेस्टमेंट बैंकरों को चुना है।

loading...
शेयर करें