प्रेमिका को घर में दफनाने वाले उदयन ने बनवाया था मां का फर्जी मृत्यु प्रमाण-पत्र

भोपाल।  प्रेमिका और छत्तीसगढ़ के रायपुर में मां-बाप की हत्या कर शवों को दफनाने वाले उदयन दास के द्वारा होशंगाबाद जिले के इटारसी से मां की मृत्यु का फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने का मामला सामने आया है। फिलहाल नगरपालिका इटारसी का कोई भी अधिकारी कुछ भी बोलने को तैयार नहीं है।

उदयन दास

उदयन दास ने इटारसी से  बनवाया था मां का फर्जी मृत्यु प्रमाण-पत्र

सूत्रों के मुताबिक, उदयन दास ने पांच फरवरी 2013 में इटारसी के गांधी नगर में रहते हुए नगरपालिका से मां इंद्राणी की सामान्य मृत्यु का प्रमाण पत्र बनवाया था। इस प्रमाण पत्र को बनवाने में एक नर्स की अहम भूमिका थी। इस प्रमाण पत्र के आधार पर ही उदयन ने रायपुर का मकान बेचा था और भोपाल में मकान खरीदा था।

मां की मृत्यु का फर्जी प्रमाण पत्र बनवाने का मामला सामने आने के बाद से इटारसी नगरपालिका में हड़कंप मचा हुआ है। नपा का कोई अधिकारी इस मसले पर बात करने को तैयार नहीं है।

होशंगाबाद के पुलिस अधीक्षक आशुतोष प्रताप सिंह ने सोमवार को कहा कि अभी तक उनके पास फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने की शिकायत नहीं आई है, शिकायत के आने पर पुलिस कार्रवाई करेगी।

ज्ञात हो कि पश्चिम बंगाल के बांकुरा की श्वेता उर्फ आकांक्षा (28) की उदयन दास से फेसबुक के जरिए दोस्ती हुई थी। उसके बाद दोनों जून 2016 से भोपाल के साकेत नगर में लिव-इन-रिलेशन में रहने लगे। दिसंबर माह में दोनों के बीच विवाद हुआ तो उदयन ने श्वेता की गलाघोंट कर हत्या कर दी और शव को घर में दफनाकर चबूतरा बना दिया था। वह इसी चबूतरे पर सोया करता था।

उदयन की हरकत का राज तब खुला जब श्वेता के परिजनों ने बांकुरा पुलिस में श्वेता की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई। बांकुरा पुलिस ने भोपाल पुलिस की मदद से साकेत नगर स्थित मकान से आकांक्षा का शव चबूतरा तोड़कर बरामद किया, वहीं आरोपी ने मां-बाप की वर्ष 2010 में हत्या कर उनके शवों को रायपुर के मकान के बगीचे में दफनाने की बात स्वीकारी। पुलिस ने वहां खुदाई करके रविवार को दोनों के शवों के अवशेष बरामद कर लिए।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button