19 साल सृष्टि गोस्वामी बनी उत्तराखंड (Uttarakhand) की मुख्यमंत्री, संभाला कार्यभार

राष्ट्रीय बालिका दिवस (National Girl Child Day) के मौके पर हरिद्वार की सृष्टि गोस्वामी ने उत्तराखंड में एक दिन के लिए मुख्यमंत्री की कुर्सी संभाली

उत्तराखंड: राष्ट्रीय बालिका दिवस (National Girl Child Day) के मौके पर बालिकाओं का उत्साह वर्धन करने के लिए हरिद्वार की सृष्टि गोस्वामी उत्तराखंड में एक दिन के लिए मुख्यमंत्री का पद संभाला। देश के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब मुख्यमंत्री के रहते हुए किसी दूसरे को उस राज्य का मुख्यमंत्री बनाया गया।

अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक

देहरादून बाल विधानसभा में सृष्टि ने एक दिन का मुख्यमंत्री का पदभार ग्रहण किया। मुख्यमंत्री बनने के बाद सभी विधायकों और अधिकारियों ने सृष्टि को शुभकामनाएं दीं। मुख्यमंत्री का कार्यभार संभालने के बाद बाल विधानसभा में सृष्टि ने समीक्षा बैठक ली। इस दौरान विभागीय अधिकारियों ने अपनी विभाग की समीक्षा रिपोर्ट पेश की।

मुख्यमंत्री सृष्टि गोस्वामी (Chief Minister Srishti Goswami) ने नेता प्रतिपक्ष से निवेदन किया कि अगर आपके कोई सवाल है तो वे सरकार के समक्ष रखे ताकि उन पर विचार किया जा सके।

आखिर कौन है सृष्टि गोस्वामी

19 साल की सृष्टि गोस्वामी हरिद्वार के दौलतपुर गांव की रहने वाली हैं और रुड़की के BSM पीजी कॉलेज से बीएसी एग्रीकल्चर (B.sc Agriculture) में सातवें सेमेस्टर (7th Sem) की छात्रा हैं। उनके पिता का नाम प्रवीण पुरी है। जिनका गांव में ही एक छोटी सी दुकान है और मां सुधा आंगनबाड़ी में कार्यकर्ता हैं।

यह भी पढ़ेNational Girl’s Day: ‘लक्ष्मी का वरदान हैं बेटी’, लेकिन सुरक्षित नहीं है लाडो, जानें क्यों?

पहली महिला प्रधानमंत्री

राष्ट्रीय बालिका दिवस (National Girl Child Day) भारत में हर साल 24 जनवरी के दिन मनाया जाता है। इसकी शुरुआत 2008 में महिला और बाल विकास मंत्रालय एंव भारत सरकार द्वारा की गई थी। राष्ट्रीय बालिका दिवस (National Girl Child Day)  मनाने का मुख्य कारण यह भी है कि इसी दिन साल 1966 में इंदिरा गांधी ने भारत की पहली महिला प्रधानमंत्री के रुप में शपथ ली थी।

यह भी पढ़ेलालू के फेफड़े में भरा पानी, नीतीश (Nitish) बोले ‘लालू प्रसाद जल्द स्वस्थ हों’

Related Articles