‘दिल्ली में ब्लैक फंगस के 200 मामले, जरुरत पड़ी तो घोषित करेंगे महामारी’

नई दिल्ली: ब्लैक फंगस को लेकर आने वाले दिनों में दिल्ली की स्थिति चिंता जनक हो सकती है. शुक्रवार को दिल्ली के हेल्थ मिनिस्टर सतेन्द्र जैन ने बताया कि राजधानी में ब्लैक फंगस के 200 मामलों की पुष्टि हुई है. हेल्थ मिनिस्टर ने लोगों को ऐसे मामलों की तुरंत डॉक्टरों को रिपोर्ट करने और खुद से दवा न लेने की सलाह दी है. मंत्री ने कहा कि दिल्ली सरकार का हेल्थ डिपार्टमेंट शहर में ब्लैक फंगस के बढ़ते मामलों को रोकने और दवाएं उपलब्ध कराने के लिए कदम उठा रहा है.

ब्लैक फंगस के लिए डेडिकेटेड सेंटर खोलने का फैसला

राजधानी दिल्ली में बढते ब्लैक फंगस के मामलों को देखते हुए दिल्ली सरकार ने इस बीमारी के इलाज के लिए तीन अस्पतालों – LNJP अस्पताल, GTB अस्पताल और राजीव गांधी अस्पताल में डेडिकेटेड सेंटर खोलने का फैसला किया है.

शुक्रवार को दिल्ली के हेल्थ मिनिस्टर सतेंद्र जैन ने मीडिया से बात करते हुए कहा, ‘एक बार जब ब्लैक फंगस की पुष्टि हो जाती है, तो खुद दवा न लें और अपने डॉक्टर से संपर्क करें. उन्होंने कहा कि बढ़े शुगर लेवल और कोविड के इलाज के दौरान स्टेरॉयड के इस्तेमाल का संबंध ब्लैक फंगस से है. उन्होंने कहा कि स्टेरॉयड का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही करना चाहिए.

जरूरत पड़ी तो Mucormycosis को करेंगे महामारी घोषित

इससे पहले बीते दिन गुरुवार को दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल ने कहा कि ‘अगर जरूरत पड़ी तो Mucormycosis को महामारी घोषित कर दिया जाएगा. उन्होंने अस्पतालों से Steroids का नियंत्रित तरीके से उपयोग करने का भी आग्रह किया. दिल्ली के अस्पतालों में महामारी की दूसरी वेव के दौरान Novel कोरोना वायरस से उबरने वाले लोगों में ब्लैक फंगस के मामलों की संख्या में वृद्धि दर्ज की गई है.

शुक्रवार को दिल्ली के हेल्थ मिनिस्टर सतेन्द्र जैन ने मीडिया को बताया कि दिल्ली के पास 18-44 ऐज ग्रुप के लोगों को वैक्सीन लगाने के लिए Covishield का स्टॉक नहीं बचा है और राष्ट्रीय राजधानी में कई Vaccination Centers को आज बंद करना होगा.

ये भी पढ़ें : DRDO की विकसित COVID-19 एंटीबॉडी डिटेक्शन किट को DGCI की मंजूरी, जानिए इसकी खासियत

Related Articles