25 लाख की नकली दवाइयां बरामद, टीम पर किया था हमला, गाड़ी में तोड़फोड़

उत्तर प्रदेश:खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन (एफएसडीए) की संयुक्त टीम ने बुधवार सुबह मेरठ में कई जगहों पर छापा मारा। इस दौरान टीम ने बड़ी मात्रा में नकली औषधियां बरामद की है। वहीं एक जगह टीम पर हमला कर दिया गया। इसमें टीम के दो सदस्य चोटिल हो गए और टीम की एक गाड़ी में तोड़फोड़ की गई। एफएसडीए की ओर से आरोपी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।मुखबिर की सूचना के बाद एफएसडीए की टीम ने बुधवार को लिसाड़ीगेट थाना क्षेत्र के अंतर्गत स्टेट बैंक कॉलोनी के सामने अफसर अली पुत्र असलम के घर पर छापा मारा। इस दौरान अफसर के घर से तीन प्रकार की नकली औषधियां बरामद की गई। वहीं अफसर से प्राप्त सूचना के आधार परटीम मुस्तकीम के घर पहुंची। टीम ने यहां से करीब पांच लाख की नकली दवाइयां बरामद की। इस दौरान मुस्तकीम ने तीसरे व्यक्ति के बारे में भी जानकारी दी।  इसके बाद टीम ने आदिल के घर छापा मारा। आदिल के घर से 12 लाख की नकली औषधियां बरामद की गई है। यह सभी पांच प्रकार की औषधियां हैं। टीम ने सभी औषधियों का नमूना लेकर जांच के लिए भेज दिया। वहीं आदिल ने विरोध करते हुए टीम पर हमला बोल दिया।

हमले में टीम के दो सदस्य चोटिल हो गए। इसके अलावा टीम की एक गाड़ी को भी क्षतिग्रस्त कर दिया गया है। एफएसडीए टीम की ओर से आरोपी के खिलाफ लिसाड़ीगेट थाने में रिपोर्ट कराई गई है। तीनों लोगों के घर से बरामद की गई औषधियों की कुल कीमत करीब 25 लाख रुपए बताई गई है। कार्रवाई के दौरान टीम में औषधि निरीक्षक बुलंदशहर दीपा लाल, औषधि निरीक्षक बिजनौर आशुतोष मिश्रा, औषधि निरीक्षक बागपत वैभव बब्बर रहे।वहीं सूचना मिलने पर लिसाड़ीगेट थाने की पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

गिरफ्तार किए गए तीनों आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। पुलिस यह पता लगाने में जुटी है कि इनके संपर्क में और कितने लोग इस काम को कर रहे हैं।सीओ कोतवाली दिनेश शुक्ला का कहना है कि मामला जानकारी में आया है। स्वास्थ्य विभाग की ड्रग्स टीम पर हमला किया गया है। टीम की ओर से तहरीर आई है। तहरीर के आधार पर कार्रवाई की जा रही है। आरोपियों को बख्शा नहीं जाएगा।

Related Articles