88 वर्षों में 296 खिलाड़ी कर चुके हैं टेस्ट में भारत का प्रतनिधित्व

88 वर्षों में 296 खिलाड़ी कर चुके हैं टेस्ट में भारत का प्रतनिधित्व

नयी दिल्ली: टेस्ट क्रिकेट में 88 वर्षों के अपने इतिहास में 296 खिलाड़ी अब तक भारत का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं।

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच मेलबोर्न में 26 दिसंबर से दूसरे बॉक्सिंग डे टेस्ट में यह संख्या बढ़ सकती है। उम्मीद की जा रही है कि सलामी बल्लेबाज शुभमन गिल और तेज गेंदबाज नवदीप सैनी या मोहम्मद सिराज अपना टेस्ट पदार्पण कर सकते हैं जिससे टेस्ट खेलने वाले भारतीयों की संख्या 298 तक पहुंच सकती है।

विराट की वापसी के बाद रहाणे को कमान

नियमित कप्तान विराट कोहली जनवरी में अपने पहले बच्चे के जन्म के कारण स्वदेश लौट चुके हैं और उनकी जगह अजिंक्या रहाणे शेष सीरीज में भारत की कप्तानी संभालेंगे। रहाणे ने 2012-13 में दिल्ली में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना टेस्ट पदार्पण किया था।

भारत ने 1932 में इंग्लैंड के लॉर्ड्स मैदान में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट खेलने की शुरुआत की थी। इस ऐतिहासिक टेस्ट के 11 सदस्यों में अमर सिंह, सोराबजी कोला, जहांगीर खान, लाल सिंह, नाओमल जाओमल, जर्नादन नावले, सीके नायुडू, नजीर अली, मोहम्मद निसार, फिरोज पालिया और वजीर अली शामिल थे।

मौजूदा टीम इंडिया के सदस्यों में विकेटकीपर रिद्दिमान साहा पदार्पण करने वाले 263वें खिलाड़ी थे और इस समय वह टीम इंडिया के सबसे अनुभवी सदस्य हैं।

साहा ने 2009-10 में नागपुर में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अपना पदार्पण किया था। चेतेश्वर पुजारा 266वें, रविचंद्रन अश्विन 271वें, उमेश यादव 272वें और रवींद्र जडेजा 275वें, अजिंक्या रहाणे 278वें, लोकेश राहुल 284वें, कुलदीप यादव 288वें, जसप्रीत बुमराह 290वें, रिषभ पंत 291वें, हनुमा विहारी 292वें, पृथ्वी 293वें और मयंक अग्रवाल पदार्पण करने वाले 295वें खिलाड़ी थे।

स्वदेश लौट चुके नियमित कप्तान विराट कोहली पदार्पण करने वाले 268वें खिलाड़ी थे जबकि टेस्ट सीरीज से बाहर हो गए मोहम्मद शमी ने 279वें खिलाड़ी के रुप में अपना पदार्पण किया था।

एडिलेड में पहले टेस्ट की हार के बाद संभावना जतायी जा रही है कि सलामी बल्लेबाज पृथ्वी की जगह शुभमन को लाया जा सकता है जबकि चोट के कारण सीरीज से बाहर हो गए शमी की जगह नवदीप सैनी या मोहम्मद सिराज में से किसी को मौका दिया जा सकता है।

यह भी पढ़े:ओलंपिक में क्रिकेट को शामिल करने पर चर्चा को बीसीसीआई ने टाला

Related Articles