यूपी में बाइक बोट घोटाले के 3 आरोपी हुए गिरफ्तार, खुलेंगे कई राज

 

 बाइक बोट घोटाले
बाइक बोट घोटाले

उत्तर प्रदेश: उत्तर प्रदेश में चर्चित बाइक बोट घोटाले में एसटीएफ को एक बड़ी सफलता हासिल हुई है. यूपी एसटीफ की नोएडा यूनिट ने आर्थिक अपराध शाखा के साथ मिलकर फरार चल रहे घोटाले के तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है. इससे कई राज खुलने की उम्मीद जगी है. मामले की छानबीन कर रहे ईओडब्ल्यू तीनों को कस्टडी रिमांड में लेकर पूछताछ करने की तैयारी कर दी है.

दरअसल, यूपी एसटीफ की नोएडा यूनिट ने आर्थिक अपराध शाखा से मिलकर बाइक बोट केस में वांछित चल रहे सचिन और पवन को गिरफ़्तार कर लिया है. सचिन पर इसी केस के सिलसिले में 50,000 का इनाम घोषित किया गया था.

वहीं मेरठ एसटीफ ने भी ईओडब्ल्यू के सहयोग से बाइक बोट केस में वांछित चल रहे किरण पाल को गिरफ्तार कर लिया है थाना दादरी में अग्रिम विधिक कार्रवाई के लिए दाखिल कर दिया है. फरार चल रहे सचिन भाटी, पवन भाटी और करण पाल सिंह को ईओडब्ल्यू ने एसटीएफ की मदद से गिरफ्तार कर लिया गया है.

रिपोर्ट की माने तो 4000 करोड़ रुपये से भी अधिक घोटाले में आरोपी कंपनी गर्वित इनोवेटिव प्रमोटर्स लिमिटेड के मुखिया संजय भाटी समेत कई डायरेक्टर पहले से ही जेल पहुंच चुके हैं. तीन नई गिरफ्तारियों के साथ इस मामले में आगे की जांच का रास्ता मिल गया है.

बहरहाल, पुलिस अधिकारिओं के मुताबिक करण पाल भी कंपनी में डायरेक्टर थे. इस केस की छानबीन कर रहे ईओडब्ल्यू के एक अधिकारी ने बताया कि तीनों की कंपनी में खास भूमिका थी. निवेशकों को झांसा देने और कोई विवाद होने पर उन्हें डराने-धमकाने का काम भी ये करते थे. तीनों को रिमांड पर लेकर पूछताछ करी जा रही है.

यह भी पढ़े: ताइवान के समर्थन में अमेरिका, चीन को दी चेतावनी

Related Articles