जिन्ना की तस्वीर पर सबसे बड़ी दरगाह ने जारी किया फतवा, देखकर रह जाएंगे हैरान

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में स्थित अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) में पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद जिन्ना की तस्वीर को लेकर विवाद थमता नजर नहीं आ रहा है। हिन्दू-मुस्लिम संगठनों के विरोध और राजनैतिक दलों के राजनीति के बीच बरेली की सबसे बड़ी दरगाह आला हजरत ने फतवा जारी किया है।

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी

इस फतवे में जिन्ना को देश के बंटवारे का जिम्मेदार ठहराया गया है और कहा गया है कि ऐसे इन्सान का समर्थन करना जायज नहीं है। मौलाना शहाबुद्दीन ने फतवे में कहा है कि मोहम्मद अली जिन्ना का सबसे बड़ा जुर्म यह है कि उन्होंने मुल्क का बंटवारा किया।

उन्होंने आगे कहा कि मुल्क की तस्किम में उनका अहम किरदार रहा है। उस वक्त मुसलामानों को जिन मुश्किलों का सामना करना पड़ा आज भी वह तारीख का हिस्सा है। आज भी वह सब लोगों को याद है। इसलिए एक फोटो को लेकर इतना विवाद खड़ा करना उचित नहीं है। अगरा उनके फोटो से कुछ लोगों को ऐतराज है तो उसे उतार देना चाहिए।

मौलाना शहाबुद्दीन ने आगे कहा कि जिन्ना दुश्मन मुल्क का हिस्सा हैं कि हमारे देश का हिस्सा है। वो दुश्मन मुल्क पाकिस्तान के संस्थापक हैं। इसी वजह से इस देश में उनके फोटो की कोई जरुरत नहीं है। सिर्फ अलीगढ़ में ही नहीं बल्कि जहां-जहां उनकी फोटो लगी हैं उसे उतार देना चाहिए।

आपको बता दें कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के यूनियन हाल में लगी फोटो पर उस मसय इ बवाल शुरू हुआ जब बीजेपी सांसद ने इस फोटो को लगाए जाने की वजह पूछी। इसके बाद हिन्दू वाड़ी संगठन और यूनिवर्सिटी के छात्रों कि बीच झडपे भी हुई।

Related Articles