सहारनपुर: भीम आर्मी जिलाध्यक्ष के भाई की हत्या के बाद इलाके में तनाव, शहर में इंटरनेट सेवाएं बंद

सहारनपुर। उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में एक बार फिर तनाव का माहौल है। यहां महाराणा प्रताप जयंती के मौके पर अज्ञात बदमाशों ने बुधवार को भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष कमल वालिया के भाई की गोली मारकर हत्या कर दी। आपको बता दें कि एक साल पहले ठीक इसी दिन सहारनपुर में हिंसा शुरू हुई थी। एक बार फिर तनाव का माहौल देखते हुए जिला अस्पताल में पीएसी तैनात कर दी गई है। सुरक्षा के मद्देनजर इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई है। इलाके को छावनी में तब्दील कर दिया गया है।

सहारनपुर

इस हत्या के मामले में पुलिस ने महाराणा प्रताप जयंती के चार आयोजकों दीपक राणा, शेर सिंह राणा, उपदेश राणा और नागेंद्र राणा के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। मिली जानकारी के मुताबिक, राजपूत भवन में महाराणा प्रताप जयंती मनाई जा रही थी। वहीँ से कुछ ही दूरी पर जिलाध्यक्ष कमल वालिया के भाई सचिन को अज्ञात लोगों ने गोली मार दी।

इसके बाद उन्हें तत्काल उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। इस घटना के बाद शांति व्यवस्था कायम करना पुलिस महकमे की पहली प्राथमिकता है। इलाके में मौके पर पीएसी और भारी फोर्स तैनात कर दी गई है।।

वहीँ मृतक सचिन वालिया के परिजनों का आरोप है कि उसे भगवा पट्टे पहने बाइक सवारों ने गोली मार दी। हालांकि पुलिस कप्तान बबलू कुमार मामले को संदिग्ध बता रहे हैं। उन्होंने कहा कि परिजन सही घटनास्थल नहीं बता पा रहे हैं। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

जयंती न मनाने की दी थी चेतावनी
आपको बता दें कि भीम आर्मी ने महाराणा प्रताप की जयंती न मनाने की चेतावनी दी थी इसके बाद भी कार्यक्राम का आयोजन किया गया। जिला प्रशासन अलर्ट पर था। प्रताप भवन पर 800 पुलिसकर्मी तैनात किए गए थे। 200 लोगों को जयंती मानाने की प्रशासन ने सशर्त इजाजत दी थी।

2017 में भी हुआ था बवाल

उल्लेखनीय है कि पिछले साल भी 9 मई को ही सहारनपुर में जातीय हिंसा हुई थी। महाराणा प्रताप के जयंती के दिन ही राजपाट समाज और दलित एक दुसरे के आमने सामने थे। जमकर हिंसा हुई। ये हिंसा महीनों तक चलती रही। इस हिंसा के दौरान तोड़फोड़, आगजनी और पथराव की काफी घटनाएं हुई थीं। इसी इस हिंसा को भड़काने के आरोप में इसी मामले में भीम आर्मी के मुखिया चंद्रशेखर उर्फ रावण जेल में हैं।

Related Articles