अब बूढ़े मां-बाप को छोड़ने वाले बच्चों को मिलेगी कड़ी सजा, कानून में हो रहा बदलाव

0

नई दिल्ली। आजकल बूढ़े मां-बाप बच्चों पर बोझ बन गए हैं। अपने खुशियों के खातिर बहुत से लोग हैं जो अपने मां-बाप को सड़कों पर रहने को मजबूर कर देते हैं। ऐसे लोगों के लिए सरकार एक सख्त कानून लाने की योजना बना रही है। इस कानून के मुताबिक जो लोग बुर्जुर्ग मां-पिता को छोड़ देते हैं उनकी सजा 3 महीने से बढाकर 6 महीने करने की तैयारी है।    कानून सामाजिक न्याय और सशक्तिकरण मंत्रालय ने हाल ही में सामाजिक न्याय और सशक्तिकरण मंत्रालय ने समीक्षा की और बच्चों की परिभाषा को विस्तार देने की भी सिफारिश की है। इस बारे में अधिक जानकारी देते हुए मंत्रालय के वरिष्ट अधिकारी ने कहा कि इस परिभाषा के अंतर्गत दत्तक या सौतेले बच्चों, दामाद और बहुओं, पोते-पोतियों, नाती-नातिनों और ऐसे नाबालिगों को भी शामिल करने की सिफारिश की गयी है जिनका प्रतिनिधित्व कानूनी अभिभावक करते हैं।

फ़िलहाल मौजूदा कानून एक अंतर्गत सगे बच्चे और पोते-पोतियां शामिल हैं। समीक्षा के बाद मंत्रालय ने संसाधनों के साथ माता-पिता और वरिष्ठ नागरिकों की देखभाल और कल्याण कानून, 2018 एक नया ड्राफ्ट तैयार कर लिया है। इस ड्राफ्ट को मान्यता मिलने के बाद ही वर्ष 2007 के नियम में बदलाव किया जायेगा।

वहीँ नए नियम में मासिक देखभाल भत्ता राशि 10,000 रुपये कि अधिकतम सीमा को भी समाप्त कर दिया गया है। अगर कोई भी अपने माता पिता कि जिम्मेदारी लेने से इनकार करता है तो वो कानून का सहारा ले सकते हैं।

loading...
शेयर करें