कानपुर : जहरीली शराब पीने से 4 मरे, कई बीमार

0

कानपुर। जहरीली शराब पर कानून बन्ने के बाद भी प्रदेश में अवैध शराब का कारोबार धड़ल्ले से जारी है और इसके सेवन लोग अपनी जान गंवा रहे हैं। ताजा घटना कानपुर के जनपद के सचेंडी थाना क्षेत्र की है जहां कई गांवों में शनिवार को जहरीली-मिलावटी शराब पीने से रिटायर्ड दरोगा समेत चार ग्रामीणों की मौत हो गई। वहीं एक दर्जन से ज्यादा ग्रामीणों की हालत खराब बताई जा रही है, जिन्हें हैलेट अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

सचेंडी थाना

घटना के बाद जहां गांव में कोहराम मच गया, वहीं जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया है। प्रशासन ने जिस ठेके से शराब खरीदी गई थी, उसके सैंपल लेकर ठेका बंद करा दिया है। साथ ही क्षेत्रीय आबकारी इंस्पेक्टर को निलंबित किया गया है। हालांकि अधिकारी मौतों की वजह जहरीली शराब होना फिलहाल स्वीकार नहीं कर रहे हैं। अधिकारियों का कहना है कि मारे गए लोगों के विसरे की फोरेंसिक जांच की जा रही है जिसकी रिपोर्ट आने के बाद ही आधिकारिक रूप से कुछ कहा जा सकेगा।

सचेंडी थाना क्षेत्र के हेतपुर, सुरार व दूल समेत आसपास के गांवों के लोगों ने शुक्रवार शाम दूल गांव स्थित रामबालक के सरकारी ठेके से शराब खरीदी थी। पीने के बाद शुक्रवार रात में उनकी तबीयत बिगड़ने लगी। शनिवार सुबह परिजन सभी को आसपास के क्लीनिक ले गए, जहां इलाज के दौरान दूलगांव के रिटायर्ड दरोगा जगजीवन राम कमल (62), किसान रत्नेश शुक्ला (50) की मौत हो गई। वहीं इलाज के सुरार गांव के प्राइवेट कर्मी राजेंद्र कुमार तोमर (45) और ग्राम हेतपुर के किसान उमेश यादव (35) की भी की मौत हो गई। सभी ने एक ही ठेके से शराब खरीदी थी।

चार मौतों की सूचना पर सचेंडी पुलिस गांव पहुंची और बाकी बीमार लोगों को एलएलआर अस्पताल (हैलट) व शहर के निजी अस्पतालों में भर्ती कराया। बीमार ग्रमीणों की संख्या दर्जन भर से ज्यादा बताई जा रही है, जिनमें बब्बन, महेश, भोला, तुलसी राम, जगजीवन, रघुवीर, श्यामवीर, जनार्दन, कन्नौज निवासी राजपाल, देव, भूपसिंह, अशोक, महेशचंद्र, रामगोपाल, घनश्याम व विनोद गंभीर बताए जा रहे हैं।

परिजन बताते हैं कि शराब पीने से बीमार लोगों को या तो दिखना कम हो गया या उनकी आंखों की रोशनी चली गई।

घटना की जानकारी मिलने पर आबकारी विभाग की टीम, डीएम सुरेंद्र सिंह और एसएसपी अखिलेश कुमार, एसपी ग्रामीण, एसडीएम और फोरेंसिक टीम भी मौके पर पहुंची प्रशासन के निर्देश पर ठेके से शराब के सैंपल लिए गए। ठेका संचालक मौके से फरार हो गया है।

अधिकारियों के मुताबिक, मामले में एफआईआर दर्ज करा सख्त कार्रवाई की जाएगी। इसके अलावा ठेके का लाइसेंस भी निरस्त किया जाएगा। शराब जहरीली होने की आशंका पर जांच के आदेश दिए गए हैं। शराब में मिले केमिकल की जांच होगी। जांच का यह बिंदु होगा कि आखिर शराब जहरीली कैसे हुई।

उधर अफसरों ने एहतियातन उन्नाव से आने वाली सप्लाई पर भी रोक लगा दी है। शराब दुकान के अनुज्ञापी के विरुद्ध मुकदमा दर्ज दुकान को सीज कर दिया गया है। साथ ही क्षेत्रीय आबकारी इंस्पेक्टर को निलंबित किया गया है।

एसएसपी अखिलेश कुमार ने कहा कि घटना की जांच हो रही है। दोषियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। वहीं डीएम ने जिले के तमाम ठेकों से शराब के सैंपल लेकर जांच कराने के आदेश दिए हैं

 

loading...
शेयर करें