यूपी मेें 45 चीनी मिलों ने शुरू की गन्ने की पेराई

प्रदेश की तीन चीनी मिलों सहकारी क्षेत्र की एक चीनी मिल मोरना, मुजफ्फरनगर तथा निजी क्षेत्र की दो चीनी मिल मझावली, सम्भल एंव बेलवाडा, मुरादाबाद ने पेराई कार्य आरम्भ कर दिया है।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के गन्ना आयुक्त संजय आर भूसरेड्डी ने बुधवार को बताया कि राज्य में गन्ना पेराई सत्र 2020-21 का शुभारम्भ हो गया है आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि प्रदेश की तीन चीनी मिलों सहकारी क्षेत्र की एक चीनी मिल मोरना, मुजफ्फरनगर तथा निजी क्षेत्र की दो चीनी मिल मझावली, सम्भल एंव बेलवाडा, मुरादाबाद ने पेराई कार्य आरम्भ कर दिया है।

गन्ना खरीद शुरू 

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में सहारनपुर परिक्षेत्र की थानाभवन, भैसाना, खतौली, ऊन, गागलहेडी, देवबन्द, मन्सूरपुर, तितावी तथा मेरठ परिक्षेत्र की मवाना, किनौनी, नंगलामल, सिम्भावली, बृजनाथपुर, बागपत, रमाला, साबितगढ और अगौता चीनी मिलों ने इंडेंट जारी कर गन्ना खरीद शुरू कर दी है।

मुरादाबाद परिक्षेत्र की चीनी मिलों में स्योहारा, धामपुर, बुंदकी, चांदपुर, बिलाई, बहादुरपुर, गजरौला, रानीनागल, बेलारी, असमौली, रजपुरा, मिलकनारायणपुर, करीमगंज, बिजनौर, नजीबाबाद, बरकातपुर, धनौरा, चन्दनपुर एंव अगवानपुर द्वारा भी इंडेंट जारी कर गन्ना खरीद प्रारम्भ कर दी गयी है अथवा दो से तीन दिन में प्रारम्भ कर दी जायेगी।

पीलीभीत और मीरगंज चीनी मिल ने शुरू की खरीद

मध्य उत्तर प्रदेश में अवस्थित चीनी मिलों के संबंध में जानकारी देते हुए गन्ना आयुक्त ने बताया कि बरेली परिक्षेत्र की पीलीभीत, बहेड़ी और मीरगंज चीनी मिल द्वारा भी गन्ना खरीद की जा रही है तथा लखनऊ परिक्षेत्र की रूपापुर, लोनी, हरियांवा, अजवापुर, रामगढ़, जवाहरपुर चीनी मिलों द्वारा भी गन्ना खरीद के लिये इंडेट जारी कर दिये गये है।

इस प्रकार पश्चिमी और मध्य यू.पी. की इन 45 चीनी मिलों मे से अधिकांश चीनी मिलों द्वारा अक्टूबर माह में तथा कुछ के द्वारा 2 से 3 नवम्बर तक गन्ना खरीद शुरू कर दी जायेगी। इन चीनी मिलों से सम्बन्धित कृषकों को म्ण्त्ण्च् के माध्यम से एस.एम.एस पर्ची भी भेजी जा चुकी है।

चीनी मिलों को निर्देश जारी 

भूसरेड्डी ने बताया कि कृषकों के गन्ने का समय से निस्तारण कराने एवं रबी फसलों की बुवाई समय से सुनिश्चित कराने के लिये चीनी मिलों को शीघ्र चलाया जाना विभाग की प्राथमिकता है। इस संबंध में चीनी मिलोें को शीघ्र पेराई कार्य शुरू करने के लिये निर्देश पारित किये जा चुके है।

जिसके फलस्वरूप पश्चिमी उत्तर प्रदेश की अधिकतर चीनी मिलों ने माह अक्टूबर के अन्तिम सप्ताह से पेराई कार्य प्रारम्भ कर दिया है तथा आशा है कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश तथा मध्य उत्तर प्रदेश की शेष चीनी मिलों द्वारा भी आगामी एक सप्ताह में गन्ना पेराई प्रारम्भ कर दिया जायेगा।

किसानों कर सकेंगे अतिरिक्त आय 

गन्ना आयुक्त ने यह भी बताया कि पेराई कार्य शीघ्र प्रारम्भ होने से किसान अपना पेड़ी गन्ना चीनी मिलों को आपूर्ति कर खाली खेत में रबी फसल की बुवाई कर सकेंगे, जिससे उनको अतिरिक्त आय होगी साथ ही उनका गन्ना समय से चीनी मिलों को आपूर्ति हो सकेगा।

गन्ने की शीघ्र आपूर्ति होने से उन्हें गन्ना मूल्य शीघ्र प्राप्त होगा जिससे उनको रबी की बुवाई में व्यय के लिये पर्याप्त धन प्राप्त हो जायेगा जिससे वे रबी की बुवाई में अच्छा बीज, पर्याप्त खाद, उर्वरक व दवाइयों की खरीद कर सकेंगे।

ये भी पढ़ें- कोरोना मामले 80 लाख के पार, सक्रिय मामले घटकर 6.05 लाख

Related Articles

Back to top button