यूपी में बैक टू बैक एनकाउंटर के बाद 5 अपराधी गिरफ्तार

मुठभेड़ में घायल हुए चारों अपराधियों और एक पुलिसकर्मी को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

उत्तर प्रदेश: चंदौली पुलिस ने रविवार को हरकत में आई और एक ही रात में तीन अलग-अलग थाना क्षेत्रों में मुठभेड़ को अंजाम देने वाले चार बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया। मुठभेड़ में घायल हुए चारों अपराधियों और एक पुलिसकर्मी को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जानकारी के अनुसार मुठभेड़ उस वक्त हुई जब पुलिस अपराधियों को पकड़ने के लिए विशेष अभियान चला रही थी, बाद में बाइक सवार बदमाशों को विभिन्न स्थानों से पकड़ा गया, जब वे भागने की कोशिश कर रहे थे।

पहली मुठभेड़

पहली मुठभेड़ रविवार रात करीब 12 बजे चंदौली थाना क्षेत्र के कटसिल मोड में हुई, जब पुलिस ने बाइक सवार दो बदमाशों को रुकने का इशारा किया था। तभी एक बदमाश भागने में सफल हो गया और दूसरे ने पुलिस टीम पर फायरिंग कर दी। जवाबी फायरिंग में बदमाश के पैर में गोली लग गई, जिससे काफी खून बहने लगा और उसे तुरंत जिला अस्पताल ले जाया गया। गिरफ्तार बदमाश की पहचान गाजीपुर निवासी पीयूष सिंह जमानिया के रूप में हुई है। उसके खिलाफ रंगदारी, लूट और हत्या के प्रयास समेत कई मामले दर्ज हैं। 2018 में तत्कालीन मुगलसराय कोतवाल शिवानंद मिश्रा ने रंगदारी के एक मामले में पीयूष को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। तब से पीयूष पिछले कुछ सालों से वाराणसी में छिपा हुआ है।

दूसरी मुठभेड़

सुबह करीब 2 बजे सकलडीहा पुलिस और अपराध शाखा के बीच बदमाश के साथ एक और मुठभेड़ हुई, जो शुरू में भागने में सफल रहा था। गोली लगने के दौरान कृष्णानंद विश्वकर्मा नाम के दूसरे बदमाश के बाएं पैर में गोली लग गई और उसे भी जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। पुलिस ने कहा कि कृष्णानंद के खिलाफ डकैती, हत्या के प्रयास के कई मामले दर्ज किए गए थे, उन्होंने कहा कि उस पर 2018 में लौंडा चौकी प्रभारी पर गोलीबारी का आरोप लगाया गया है।

तीसरी मुठभेड़

तड़के तीन बजे धनापुर पुलिस ने मथुरा के पास कैनाल ब्रिज पर चेक पोस्ट स्थापित कर बदमाशों को धर दबोचा। इस मुठभेड़ में एक बदमाश को दाहिने पैर में, जबकि दूसरे को बाएं पैर में गोली लगी। गोली लगने से कांस्टेबल रूपेश कुमार दुबे भी घायल हो गए। बदमाशों की पहचान बिहार के रामगढ़ निवासी अरुण कुमार उर्फ ​​रुद्र सिंह के रूप में हुई है, जिस पर 25 हजार रुपये का इनाम था और दूसरे आरोपी की पहचान अंकुर उर्फ ​​गोपाल सिंह के रूप में हुई है। चंदौली से धीना। पुलिस ने इनके पास से मोटरसाइकिल, एक रिवॉल्वर और .32 बोर की पिस्टल बरामद की गई है।

चौथा एनकाउंटर

चौथी मुठभेड़ यूपी के आगरा में तड़के करीब 3 बजे हुई थी, जिसमें सिकंदरा थाना क्षेत्र में 40,000 रुपये का इनाम रखने वाला एक अपराधी पकड़ा गया था। पुलिस ने एक निजी गोल्ड लोन फर्म को लूटने के मामले में अपराधी का पता लगा लिया था। आरोपियों के पास से दो किलो सोने के जेवरात और 42 हजार रुपये बरामद किए गए हैं। फिलहाल पुलिस लूट के मास्टरमाइंड नरेंद्र उर्फ ​​लाला की तलाश कर रही है।

यह भी पढ़ें: अब, नीतीश कुमार ने पेगासस जासूसी मामले की जांच करने की कि मांग

Related Articles