राजनीति में 50% आरक्षण मिले तब महिलाओं की समस्याओं का हल होगा: हरमनप्रीत

मोगा: आधा हिन्दुस्तान की सीरीज में आज मिलिए हरमनप्रीत कौर से। भारतीय महिला टी-20 टीम की कप्तान। हरमन को क्रिकेट में उनके शानदार प्रदर्शन की वजह से 2017 में अर्जुन अवार्ड मिल चुका है। हरमन देश की पहली ऐसी महिला क्रिकेटर हैं, जिन्होंने टी-20 इंटरनेशनल में शतक लगाया है। चुनाव के मद्देनजर भास्कर ने जब उनसे बात की तो उन्होंने कहा- महिलाओं की समस्या का एक ही हल है। उन्हें राजनीति में 50 फीसदी आरक्षण मिलना चाहिए।

महिलाओं के मन की बात क्या है? 
महिलाओं के मन में भी देश की खुशहाली ही बसती है। लेकिन इसके बीच महिलाओं के हकों की सुरक्षा भी जरूरी हैं। जो इस तरह की सोच रखे, उन्हीं नेताओं को ही वोट मिलने चाहिए।

एक ओर सबरीमाला विवाद है… दूसरी ओर महिलाओं से जुड़े बड़े फैसले हैं। क्या ये महिला वोटर्स को आकर्षित करते हैं?
फर्क इससे पड़ता है कि ऐसे कितने फैसले लागू हो पाते हैं।

इस चुनाव में पार्टी देखेंगी या प्रधानमंत्री पद का चेहरा?
न दल, न चेहरा। दोनों ही महत्वपूर्ण नहीं हैं। मैं तो सिर्फ इतना देखूंगी कि देश को एक साथ जोड़कर आगे कौन ले जा सकता है।

आपके लिए सबसे बड़ा मुद्दा क्या है?
आतंकवाद का सफाया सबसे जरूरी मुद्दा है। पिछले पांच सालों में आतंकवाद बढ़ा ही है।

चुनाव में महिलाओं का वोट प्रतिशत तो बढ़ता है, इसके बावजूद चुनाव लड़ने वाली महिलाएं कम क्यों हैं?
पुरुष प्रधान समाज इसकी बड़ी वजह है। राजनीति अलग विषय नहीं है।

तो महिलाओं की समस्याओं का राजनीति में क्या हल है?
मेरा मानना है महिलाओं को राजनीति में 50 फीसदी आरक्षण मिलना चाहिए। वे पुरुषों के बराबर हैं तो राजनीति में यह दिखना भी चाहिए।

सरकार ने किसानों की आर्थिक सुरक्षा के लिए बड़ा फैसला लिया है, महिलाओं के लिए ऐसा नहीं होना चाहिए?
यह बराबरी की ओर ले जाने वाला बड़ा कदम हो सकता है। न दल, न चेहरा…जो देश को आगे ले जाए उसे वोट

वह कौनसा क्षेत्र है, जहां नई सरकार को तुरंत ध्यान देना चाहिए?
मेरे विचार से तो खेल ऐसा क्षेत्र है, जहां तुरंत ध्यान देने की जरूरत है। महिलाओं को आगे बढ़ने के मौके देने के लिहाज से यह जरूरी भी है।

Related Articles