UP में COVID-19 के 6,046 नए केस, मीडियाकर्मियों/जजों के लिए अलग से Vaccination का इंतजाम

UP के अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने बताया कि जिन 23 जनपदों में 18-44 आयु वर्ग का वैक्सीनेशन कार्यक्रम चल रहा है वहां मीडियाकर्मियों और जजों के लिए हर जनपद में अलग से वैक्सीनेशन की व्यवस्था की जाएगी

लखनऊ: उत्तर प्रदेश  (Uttar Pradesh)  के अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि पिछले 24 घंटों में COVID-19 के 6,046 नए मामले सामने आए हैं और 17,540 लोग डिस्चार्ज हुए है। 24 अप्रैल की तुलना में प्रतिदिन दर्ज किए जाने वाले मामलों में 84.2% की कमी आई है। राज्य में सक्रिय मामलों की कुल संख्या 94,482 है।

मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने भी कहा कि प्रदेश में रिकवरी दर 93.2% हो गया है। संक्रमण से कल 226 लोगों की मृत्यु हुई है। पिछले 24 घंटे में प्रदेश में 3,06,548 सैंपल्स की जांच की गई है। अब तक उत्तर प्रदेश में 4,64,19,134 टेस्ट किए गए हैं। अब तक कुल मिलाकर 1,27,26,977 लोगों को वैक्सीन की पहली डोज दी गई है और इनमें से 33,32,714 लोगों को वैक्सीन की दूसरी डोज लगाई गई है। 23 जनपदों में 18-44 आयु वर्ग का वैक्सीनेशन किया जा रहा है।

मीडियाकर्मियों और जजों के लिए

उत्तर प्रदेश अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने बताया कि जिन 23 जनपदों में 18-44 आयु वर्ग का वैक्सीनेशन कार्यक्रम चल रहा है वहां मीडियाकर्मियों और जजों के लिए हर जनपद में अलग से वैक्सीनेशन की व्यवस्था की जाएगी। इसके लिए अलग काउंटर बनाए जाएंगे।

प्रतिनिधियों के साथ बैठक

कानपुर (Kanpur) में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) स्मार्ट सिटी के दफ्तर पहुंचे और सार्वजनिक प्रतिनिधियों के साथ बैठक की है। इस दौरान उन्होंने बताया कि अब तक 1,62,00,000 से अधिक लोगों को वैक्सीन दी गई है। बहुत से लोग वैक्सीन को भाजपा और नरेंद्र मोदी का बताते थे। आज वहीं लोग कह रहे हैं कि वैक्सीन निशुल्क दिया जाना चाहिए। हमारा प्रयास है कि 30 मई तक कोरोना नियंत्रण में आ जाए और जून में हम वैक्सीन में तेजी लाएंगे।

कोरोना की तीसरी लहर

इटावा दौरे में मुख्यमंत्री योगी ने बताया कि कोरोना की तीसरी लहर आने से पहले हम व्यवस्था कर चिन्हित कर रहे हैं कि 10 साल से कम उम्र के सभी बच्चों के अभिभावकों को वैक्सीन की डोज देकर उन्हें सुरक्षा प्रदान कर दी जाए।

यह भी पढ़ेRaja Rammohan Roy Jayanti 2021: जानें क्यों छोड़े थे ईस्ट इंडिया कंपनी की नौकरी, Alexander Duff से मिली मदद

Related Articles