65th NFA: दादासाहेब फाल्के पुरस्कार मिलने पर इमोशनल हुआ विनोद खन्ना का परिवार

नई दिल्ली: बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता विनोद खन्ना के अपने ज़माने में बहुत जलवे थे। लोग इनकी अदायगी के कायल थे।  इनको कई पुरस्कारों से सम्मानित भी किया गया था।  कई फिल्मों में बेशुमार शोहरत, नाम बटोरने वाले विनोद खन्ना को मरणोपरांत दादासाहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किए जाने के दौरान उनके परिवार ने कहा कि यह उनके लिए गौरवपूर्ण और भावुक क्षण है।

विनोद खन्ना को 65वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार के दौरान सम्मानित किया गया। विनोद खन्ना की पत्नी कविता और उनके पुत्र अक्षय खन्ना यह पुरस्कार लेने के लिए विज्ञान भवन में मौजूद थे। समारोह से पहले अक्षय ने कहा, “एक पुत्र के रूप में उनकी ओर से पुरस्कार प्राप्त करना बहुत ही विनयपूर्ण है। यह हम सभी के लिए गौरवपूर्ण और भावुक क्षण है।”

 कविता ने कहा, “यह मेरे परिवार, उनके प्रशंसक के लिए खुशी एवं गर्व का समय है। हमें इसलिए बुरा भी लग रहा है कि वह यहां हमारे बीच यह पुरस्कार ग्रहण करने के लिए मौजूद नहीं है।” कविता ने कहा, “मैं इसलिए भी खुश हूं क्योंकि अक्षय उनकी ओर से पुरस्कार ग्रहण कर रहे हैं। उनकी ओर से यह पुरस्कार लेने के लिए अक्षय से अच्छा और कोई व्यक्ति नहीं हो सकता।” पिछले वर्ष 70 की उम्र में विनोद खन्ना का निधन हो गया था।

बता दें, उन्होंने अपने फ़िल्मी सफर की शुरूआत 1968 में आयी फ़िल्म मन का मीत  से की जिसमें उन्होंने एक खलनायक का अभिनय किया था। कई फ़िल्मों में उल्लेखनीय सहायक और खलनायक के किरदार निभाने के बाद 1971 में उनकी पहली एकल हीरो वाली फ़िल्म हम तुम और वो आयी। कुछ वर्ष के फ़िल्मी संन्यास, जिसके दौरान वे आचार्य रजनीश के अनुयायी बन गए थे, के बाद उन्होंने अपनी दूसरी फ़िल्मी पारी भी सफलतापूर्वक खेली और 2017 सक्रिय रहे।

Related Articles