नवरात्रि का 6वां दिन, आज करें माँ कात्यायिनी की पूजा, मन की शक्ति होगी मजबूत

लखनऊ: नवरात्रि का आज 6वां दिन है, आज मां नव दुर्गा के छठे रूप मां कात्यायनी देवी की पूजा-अर्चना की जाती है। मान्यताओं के अनुसार, कात्यायिनी मां का स्वरूप सुख और शांति प्रदान करने वाला है। सुबह किसी भी समय देवी कात्यायनी की पूजा कर सकते हैं। आज इनकी पूजा करने से मन की शक्ति मजबूत होती है और साधक इन्द्रियों को वश में कर सकता है।

अविवाहितों को देवी की पूजा करने से अच्छे जीवनसाथी की प्राप्ति होती है। धर्म ग्रंथों के अनुसार, देवी कात्यायिनी ने ही राक्षस महिषासुर का मर्दन किया था।

पूजा विधि:

आज के दिन भक्तों को सूर्योदय से पहले उठकर नहाधोकर साफ कपड़े पहनने चाहिए। इसके बाद लकड़ी की चौकी पर लाल कपड़ा बिछाकर मां कात्यायनी की मूर्ति स्थापित करें। इसके पश्चात मां को रोली और सिंदूर का तिलक लगाकर मंत्रों का जाप करते हुए कात्यायनी देवी को फूल अर्पित करें और शहद का भोग लगाएं। घी का दीपक जलाकर दुर्गा सप्तशती का पाठ करें। बाद में दुर्गा चालीसा का पाठ कर, आरती करें। आखिर में प्रसाद सभी लोगों में बांट दें।

मां कात्यायनी का मंत्र

चंद्रहासोज्जवलकरा शार्दूलवर वाहना।कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनि।

मां कात्यायनी की आरती

जय जय अंबे जय कात्यायनी ।जय जगमाता जग की महारानी ।।बैजनाथ स्थान तुम्हारा।वहां वरदाती नाम पुकारा ।।

कई नाम हैं कई धाम हैं।यह स्थान भी तो सुखधाम है।।

हर मंदिर में जोत तुम्हारी।कहीं योगेश्वरी महिमा न्यारी।।

हर जगह उत्सव होते रहते।हर मंदिर में भक्त हैं कहते।।कात्यायनी रक्षक काया की।ग्रंथि काटे मोह माया की ।।

झूठे मोह से छुड़ानेवाली।अपना नाम जपानेवाली।।

बृहस्पतिवार को पूजा करियो।ध्यान कात्यायनी का धरियो।।

हर संकट को दूर करेगी।भंडारे भरपूर करेगी ।।जो भी मां को भक्त पुकारे।कात्यायनी सब कष्ट निवारे।।

Related Articles