यूपी में 56 ट्रेनों से 70 हजार प्रवासी पहुंचे, 2 दिन में और 79 ट्रेनें पहुंचेंगी: योगी

लखनऊ: कोरोना वायरस और लॉकडाउन के बीच अन्य राज्यों में फंसे प्रवासी मजदूरों और कामगारों को उनके गृह राज्य पहुंचाने का सिलसिला जारी है. उत्तर प्रदेश में अब तक 56 ट्रेनों से गुजरात और महाराष्ट्र समेत कई राज्यों से 70 हजार प्रवासी लोग वापस आ गए हैं. अभी 79 ट्रेनें और आने वाली हैं.

प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार प्रवासी लोगों को उनके घर तक सुरक्षित पहुंचाने की कोशिश में लगी है. हरियाणा से 30 हजार प्रवासी कामगार या श्रमिक उत्तर प्रदेश पहुंचेंगे. दूसरे राज्यों से लाने के लिए यूपी परिवहन निगम की 10 हजार से ज्यादा बसें चलाई गई हैं.

अब तक 56 ट्रेनों से गुजरात, महाराष्ट्र, कर्नाटक, पंजाब, आंध्र प्रदेश और केरल आदि राज्यों से 70 हजार प्रवासी कामगार और श्रमिक उत्तर प्रदेश पहुंच चुके हैं. प्रदेश पहुंचने वाले प्रवासियों को खाद्यान्न पैकेज और भरण पोषण भत्ता देकर होम क्वारंटीन कराया जा रहा है.

सुरक्षित लाने का सीएम का निर्देश

बड़ी संख्या में वापसी की आस लगाए रखने वाले प्रवासी मजदूरों और श्रमिकों को लेकर 79 और ट्रेनें महाराष्ट्र, गुजरात, पंजाब, कर्नाटक, केरल और तेलंगाना आदि राज्यों से उत्तर प्रदेश लेकर आ रही है.

प्रवासी मजदूरों और श्रमिकों की सकुशल वापसी को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीम-11 की बैठक में अफसरों को स्पष्ट निर्देश दिए थे.

मुख्यमंत्री योगी ने निर्देश दिया कि सभी प्रवासी कामगारों/श्रमिकों को सुरक्षित लाने की व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाए. साथ ही मेडिकल चेकअप के बाद खाद्यान्न और भरण पोषण भत्ता देकर सुरक्षित घरों तक पहुंचाएं. साथ ही यदि किसी में बीमारी के लक्षण हैं तो तत्काल अस्पतालों में दें उपचार के लिए भेजा जाए.

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि किसी भी प्रवासी कामगार या श्रमिक को किसी तरह की कोई असुविधा नहीं होनी चाहिए.

मुख्यमंत्री ने मानदेय जारी रखने का निर्देश देते हुए कहा कि अब तक ऐसे औद्योगिक संस्थान जो लॉकडाउन के दौरान बंद थे, इसके बावजूद उन्होंने अपने सभी कामगारों और श्रमिकों को मानदेय उपलब्ध कराया है, उन उद्योगों और औद्योगिक संस्थानों (सूक्ष्म, लघु व मध्यम) में काम करने वाले कामगारों और श्रमिकों को आगे भी उनका मानदेय अवश्य मिलता रहे.

Related Articles