आजादी के इतने साल बीत गये लेकिन सोरहर नदी पर पुल नहीं बन पाया, नेता जी आश्वासन देकर लोगों से वोट ले जाते हैं

 

 सोरहर नदी पर पुल नहीं बन पाया
सोरहर नदी पर पुल नहीं बन पाया

गया: बिहार के गया से 120 किलोमीटर दूर इमामगंज विधानसभा क्षेत्र के डुमरिया प्रखण्ड के तन्डवा गांव जाने के लिए सोरहर नदी पर आज तक पुल नहीं बन पाया. ग्रामीणों ने बताया कि आजादी के इतने साल बीत चुके हैं, लेकिन इस नदी पर पुल निर्माण कार्य कराये जाने का आश्वासन के अलावा आज तक कुछ नहीं मिला.

उन्होंने कहा कि 20 सालों तक तत्कालीन जेडीयू नेता सह पूर्व बिहार विधानसभा अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी विधायक रहे, पिछले 5 सालों से बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी विधायक हैं, लेकिन किसी ने पुल बनवाना जरूरी नहीं समझा. चुनाव के समय सभी प्रत्याशी इसी नदी पर पुल बनवाने का आश्वासन देकर तन्डवा के लोगों से वोट मांग लेते हैं. लेकिन अब तक किसी ने भी अपना वादा पूरा नहीं किया.

उन्होंने बताया कि बरसात के 3 महीने जब नदी का जलस्तर इतना बढ़ जाता है कि लोगों का आना जाना बंद हो जाता है. ऐसे में कई गांव के ग्रामीणों को परेशानी का सामना करना पड़ता है. जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों का चक्कर लगा-लगाकर थक जाने के बाद हमने खुद चंदा इकट्ठा कर चचरी पुल का निर्माण कराया है. वहीं गांव के छात्र-छात्राओं ने बताया कि बरसात के दिनों में ज्यादा पानी आ जाने के कारण उनकी पढ़ाई भी बंद हो जाती है. हमेशा चचरी पुल से गिरने का डर बना रहता है.

यह भी पढ़े: असम के बाद अब छत्तीसगढ़ में सबसे कम बेरोजगारी की दर,सीएमआईई ने जारी किये ताज़ा आकड़े

Related Articles