शनि शिंगणापुर मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर मुख्‍यमंत्री सहमत

0

अहमदनगर (महाराष्‍ट्र)। शनि शिंगणापुर मंदिर में महिलाओं के जबरन प्रवेश से जुड़े मामले का हल निकालने के लिए महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने अपनी ओर से पहल की है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने महिलाओं के शनि शिंगणापुर मंदिर में प्रवेश का समर्थन किया है। वहीं अखाड़ा परिषद को भी महिलाओं के शनि शिंगणापुर मंदिर में प्रवेश पर कोई परेशानी नजर नहीं आ रही। अखाड़ा परिषद के महंत नरेंद्र गिरि ने कहा कि महिलाओं के किसी भी मंदिर में प्रवेश पर रोक नहीं लगाना चाहिए। उन्हें रोका जाना गलत है। चाहे पुरूष हों या महिलाएं, उन्हें किसी भी मंदिर में प्रवेश का अधिकार है।

शनि शिंगणापुर मंदिर मामले में महिलाओं का प्रदर्शन

शनि मंदिर में जबरन प्रवेश करने के लिए आ रही लगभग 500 महिला प्रदर्शनकारियों को मंगलवार को 40 किलोमीटर पहले ही हिरासत में ले लिया गया था। बाद में शाम को इन महिलाओं को छोड़ दिया गया था। इन महिला कार्यकर्ताओं की योजना मंदिर के सबसे भीतरी हिस्से में जबरदस्ती प्रवेश करने की थी। मंदिर के इस हिस्से में एक खुले प्लेटफॉर्म पर भगवान शनि के प्रतीक रूप में पवित्र माने जाने वाले काले रंग के एक पत्थर को प्रतिष्ठापित किया गया है।

ये महिला कार्यकर्ता पुणे से छह बसों में भरकर रवाना हुई थीं। उनका कहना था कि वे अहमदनगर के इस मंदिर में कई शताब्दियों से चली आ रही महिलाओं के भीतरी हिस्से में प्रवेश पर रोक की परंपरा को खत्म करना चाहती हैं। दूसरी ओर, मंदिर के पुजारियों तथा मंदिर के संचालक बोर्ड के सदस्यों का कहना है कि यह कतई स्वीकार नहीं है। इन लोगों ने स्थानीय निवासियों की मदद से मंदिर के चारों ओर महिलाओं की पंक्तियां बनाने का फैसला किया था, ताकि आने वाली प्रदर्शनकारी महिलाओं को रोका जा सके।

महिलाओं के प्रवेश को लेकर सियासत गरमाती जा रही है। महिलाओं के समर्थन में लगातार आवाजें बुलंद हो रही हैं।

 

loading...
शेयर करें