IIT Kanpur में भी हुआ IIT Roorkee जैसा कारनामा

iit-faculty1कानपुर। आईआईटी रुड़की में प्रोग्राम से टर्मिनेट स्टूडेंटों का मामला अभी शांत नहीं हुआ था कि आईआईटी कानपुर ने भी अंडर ग्रेजुएट (यूजी), पोस्ट ग्रेजुएट (पीजी) और रिसर्च के करीब 80 स्टूडेंटों को प्रोग्राम से टर्मिनेट कर दिया गया है। इन सबके पास 31 दिसंबर तक मर्सी अपील का मौका है। जो स्टूडेंट मर्सी अपील करेंगे, उनके आवेदन का अध्ययन 1 जनवरी को आईआईटी की सीनेट करेगी। यह देखेगी कि किस स्टूडेंट को पढ़ने की इजाजत दी जा सकती है।

संबंधित खबर पढ़ें…IIT कानपुर के स्‍टूडेंट को गूगल ने दी 1 करोड़ 60 लाख की नौकरी 

प्रोग्राम से टर्मिनेशन की स्थिति में एक सेमेस्टर (छह महीने) की पढ़ाई ब्रेक हो जाती है। इसके बाद फिर मर्सी अपील की मौका मिलता है। अपील मान ली गई तो पढ़ाई की जा सकेगी वर्ना स्टूडेंट को बाहर का रास्ता देखना पड़ेगा।

पहले भी हो चुका है मामला

आईआईटी रुड़की के प्रोग्राम से टर्मिनेट 72 स्टूडेंटों का मामला खूब गरमाया था। स्टूडेंटों ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की और धरना प्रदर्शन भी किया था। बाद में सीनेट ने दोबारा पढ़ाई का मौका दिया। आईआईटी कानपुर ने कम क्युमलेटिव परफारमेंस इंडेक्स (सीपीआई) वाले बीटेक, एमटेक, बीटेक-एमटेक डुवल डिग्री प्रोग्राम, बीएस, बीएस-एमएस डुवल डिग्री प्रोग्राम, एमएससी, एमडैस और एमबीए के 80 स्टूडेंटों को प्रोग्राम से टर्मिनेट कर दिया। अंडर ग्रेजुएट स्टूडेंटों की सीपीआई चार से कम आई है। सालाना के 10 कोर्स भी नहीं पास कर सके हैं। इसी तरह पोस्ट ग्रेजुएट स्टूडेंटों की सीपीआई पांच से कम मिली है। सारे कोर्स नहीं पास किए जा सके हैं।

संबंधित खबर पढ़ें..विदेश में पढ़ाई के टॉप 5 डेस्टिनेशन

शपथ पत्र देकर बताना होगा

आईआईटी के सूत्रों ने बताया कि सीनेट की आधिकारिक मीटिंग 15 दिसंबर को हुई थी, जिसका रिजल्ट सोमवार को सार्वजनिक किया गया है। साथ ही कहा गया है कि प्रोग्राम से टर्मिनेट स्टूडेंट मर्सी अपील कर दें। अपील का मौका कई बार मिलता है। इसमें स्टूडेंट और उनके माता-पिता की एक्सपर्ट पैनल के सामने पेशी होती है। शपथ पत्र देकर बताना होता है कि आगे की पढ़ाई और प्रदर्शन बेहतर रहेगा। संतुष्टि के बाद ही एक्सपर्ट पैनल मर्सी अपील स्वीकार करता है। हालांकि यह संख्या कम रहती है। 80 में से 10 या फिर 15 स्टूडेंटों की मर्सी अपील स्वीकार हो पाती है। बाकी स्टूडेंटों के एक सेमेस्टर की पढ़ाई ब्रेक हो जाती है, फिर अगले सेमेस्टर के लिए मर्सी अपील का मौका मिलता है।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button