सरकारी खजाने में लूट, GST फर्जीवाड़े में 89 लोग गिरफ्तार

हरियाणा पुलिस की क्राइम ब्रांच ने वस्तु एवं सेवा कर (GST) के घोटालेबाजों के खिलाफ कार्रवाई में 89 लोगों को गिरफ्तार किया है

चंडीगढ़: हरियाणा (Haryana) पुलिस की क्राइम ब्रांच ने वस्तु एवं सेवा कर, जीएसटी (GST) के घोटालेबाजों के खिलाफ एक समन्वित कार्रवाई में 89 लोगों को गिरफ्तार किया। पुलिस के मुताबिक, फर्जी चालान बिल घोटाले में शामिल फर्जी फर्मो के पंजीकरण से संबंधित चार बड़े गिरोहों का भंडाफोड़ किया, जिन्होंने सरकारी खजाने को 464.12 करोड़ रुपये से अधिक की धोखाधड़ी की।

जालसाजों का गठजोड़

जालसाजों का गठजोड़ हरियाणा ही नहीं, बल्कि पूरे देश में सक्रिय था। जीएसटी फर्जी चालान घोटाले (GST fake invoice scam) पर कार्रवाई से 112 करोड़ रुपये से अधिक की वसूली और फर्जी जीएसटी आइडेंटिफिकेशन नंबर जीएसटीइंशन (GSTATION) का पदार्फाश भी हुआ है।

अब तक कुल 72 पुलिस केस दर्ज किए गए हैं, जिनमें 89 आरोपियों को क्राइमब्रांच ने गिरफ्तार किया है। कुल गिरफ्तारी के अलावा गोविंद शर्मा, गौरव, अनुपम सिंगला और राकेश अरोड़ा पर 40 मामले दर्ज हैं।

यह भी पढ़ेफ्रांस में कोरोना (Corona) से 141 लोगों की मौत, जानें संक्रमण का क्या है आंकड़ा?

धोखाधड़ी ई-वे बिल

पुलिस महानिदेशक मनोज यादव ने कहा कि इन व्यक्तियों ने धोखाधड़ी ई-वे बिलों (माल के परिवहन के लिए जीएसटी से संबंधित चालान) के माध्यम से माल की वास्तविक आपूर्ति के बिना कई फर्मों और कंपनियों को धोखाधड़ी चालान जारी किए और जीएसटीआर-3बी फॉर्म के माध्यम से जीएसटी पोर्टल पर फर्जी आयकर ऋण पात्रता की सुविधा दी।

यह भी पता चला है कि फर्जी जीएसटी चालान, ई-वे बिल और फर्जी बैंक ट्रांजेक्शन की मदद से इन गिरोहों द्वारा करोड़ों रुपये के फर्जी आयकर क्रेडिट पास किए गए हैं।

पानीपत और आसपास के इलाकों में सक्रिय गोविंद गैंग से संबंधित फर्जी फर्मों के खिलाफ कुल 21 एफआईआर 2019 में दर्ज की गई थी जबकि 2018 से 2019 के बीच जीएसटी चोरी में शामिल अन्य तीन गिरोहों पर मुकदमा दर्ज किया गया था। पुलिस अब तक इन गिरोहों के आयकर ऋण को 80 करोड़ रुपये से अधिक के लिए अवरुद्ध कर चुकी है।

यह भी पढ़ेशाहिद कपूर ने किया ऐलान, दिवाली पर रिलीज होगी फिल्म जर्सी

Related Articles