Trending

93 बार चुनाव में मिली हार फिर भी बरकरार है हौसले लड़ने जा रहे 94 वां चुनाव

उत्तरप्रदेश| गजब का है उत्तरप्रदेश और उतने ही गजब के है यहां रहने वाले जो आय दिन अपने बुलंद हौसलों से लोगों को चकित कर देते हैं। वहीं सियासी सरगर्मी के बीच प्रदेश में आगरा के पूर्व राजस्व कर्मचारी हस्नूराम आंबेडकरी अपना 94 वां चुनाव लड़ने जा रहे हैं जिसके लिए उन्होंने नामंकन पत्र खरीद लिया है। हस्नूराम आंबेडकरी का हौसला इतना बुलंद है की इन्होंने अब तक 93 चुनाव लड़े और सभी मे हार पाने के बाद भी अपनी उम्मीद न हारी और एकबार पुनः जोश के साथ मैदान ने उतर गए हैं।

हस्नूराम आंबेडकरी ने मीडिया को बताया की वर्ष 1985 में उन्होंने पहली बार चुनावी मैदान में कदम रखा। उन्होंने अपनी आमीन की नौकरी छोड़ दी थी क्योंकि बड़े दलों ने उन्हें टिकट देने का वादा किया था। टिकट न मिलने पर वह फतेहपुर से निर्दलीय चुनावी मैदान में उतरे। हालाकि उन्हें जीत का स्वाद चखने का मौका नहीं मिला लेकिन उन्हें 3 नम्बर का स्थान जरूर प्राप्त हुआ।

उन्होंने आगे कहा, तब से मेरी जिद्द है की मैं हर वर्ष चुनाव लड़ूंगा। मुझे पता रहता है मैं हार जाऊंगा और मैं 93 वे बार चुनाव हार चुका हूं। लेकिन मैं आज भी हिम्मत से खड़ा हूँ और इस बार मैं 94 वां चुनाव लड़ने जा रहा हूँ।

Related Articles