ए आर रहमान का बड़ा बयान, कहा- तमिल में हिंदी भाषा जरूरी नहीं

तमिलनाडू: भाषा विवाद अब गहराता हुआ नजर आ रहा है. तमिलनाडु के स्कूलों में तीन भाषा प्रणाली के केंद्र के प्रस्ताव पर कई लोगों ने आपत्ति जताते हुए इसका विरोध किया है. इस बात को लेकर पहले डीएमके अध्यक्ष स्टालिन  ने सोशल मीडिया पर कड़ा विरोध किया था. इसके बाद साउथ सुपरस्टार कमल हासन ने भी तमिलनाडू की शिक्षा प्रणाली में हिंदी को शामिल करने के प्रस्ताव का विरोध किया.

म्यूजिक कंपोजर ए आर रहमान ने भी इस विषय पर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने ट्विटर पर लिखा, “सुंदर समाधान … “तमिल में हिंदी अनिवार्य नहीं है.” अपने इस ट्वीट के साथ ही रहमान ने भी इस बात को साफ कर दिया कि वो भी भाषा को लेकर सरकार के इस प्रस्ताव के समर्थन में नहीं हैं.

रहमान ने अपने इस बयान को भी ट्विटर पर तमिल में लिखते हुए इस भाषा पर जोर दिया है.

सोशल मीडिया पर भी तमिलनाडु के कई लोगों ने कैंपेन चलाकर सरकार के इस प्रस्ताव का पुरजोर विरोध किया. ट्विटर पर #StopHindiImposition नाम से हैशटैग भी ट्रेंड करवाया गया. इस मामले को लेकर विवाद अब हर तरफ से बढ़ता हुआ नजर आ रहा है.

सरकार ने भी अपना पक्ष रखते हुए इस बात को साफ किया कि वो अपने इस प्रस्ताव को थोपना नहीं चाहते हैं. केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा था कि उनका इरादा भारतीय भाषाओं को बढ़ावा देना है.

Related Articles