जेटली ने किया पद का दुरूपयोग, कमिश्नर से की जांच बंद करने की मांग

2015_12$largeimg18_Friday_2015_173051007नई दिल्‍ली। डीडीसीए मामले पर अरुण जेटली को घेरते हुए आज फिर आम आदमी पार्टी ने एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस की। कॉन्‍फ्रेंस में आप के प्रवक्‍ता आशुतोष ने जेटली पर कई आरोप लगाए। उन्‍होंने कहा कि जेटली जांच से घबराकर भाग रहे हैं।

आशुतोष ने 27 अक्टूबर 2011 की एक चिट्ठी दिखाई, जिसमें जेटली ने फ्रॉड के एक केस को बंद करने की बात कही गई थी। यह चिट्ठी अन्ना के आंदोलन के वक्त लिखी गई थी। आशुतोष के अनुसार जेटली ने यह चिट्ठी दिल्‍ली पुलिस कमिश्‍नर को लिखी थी।  आशुतोष ने कहा कि अब तो जेटली को अपनी जिम्‍मेदारी निभाते हुए इस्‍तीफा दे देना चाहिए।

उन्होंने 5 मई 2012 को एक दूसरी चिट्ठी लिखी गई। उसमें भी पुलिस कमिश्नर से उन्होंने जांच बंद करने के लिए कहा। उनका कहना था कि इसे बंद कीजिए क्योंकि डीडीसीए कोई गलत काम नहीं करता। अरुण जेटली कहते रहे हैं कि डीडीसीए में मेरा रोजमर्रा के कामों से कोई लेना-देना नहीं था। इन चिट्ठियों से साबित होता है कि वह अपने पद का दुरुपयोग कर रहे थे और जांच को प्रभावित करने की कोशिश कर रहे थे।

आशुतोष ने कहा कि इसलिए अरुण जेटली को पद का दुरुपयोग करने, जांच में व्यवधान पैदा करने और फ्रॉड करने वालों को बचाने के चलते अपने पद पर रहने का कोई हक नहीं है।

 

Related Articles

Leave a Reply