मुक्तिनाथ मंदिर पहुंचे पीएम मोदी, पहाड़ियों के बीच बने इस खूबसूरत मंदिर की जानिए खासियत…

0

नेपाल। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर नेपाल की ओर रुख कर रहें हैं। यह पीएम मोदी की तीसरी नेपाल यात्रा है। शुक्रवार को नेपाल पहुंचने के बाद पीएम मोदी का यह खूब भव्य स्वागत हुआ। जनकपुर, काठमांडू और मुक्तिनाथ में भारत के प्रधानमंत्री के आगमन की तैयारियां अंतिम चरण में हैं। वह इन तीनों जगहों पर आज आ पहुंचे हैं।

साथ ही पीएम मोदी ने नेपाल के मुक्तिनाथ मंदिर में पूजा अर्चना की। कहा जाता है पीएम मोदी अपने हर दौरे में किसी न किसी मंदिर में जाते जरुर हैं। आइए आपको बताते हैं जिस मंदिर में आज उन्होंने दर्शन किए उसकी खासियत क्या है।

मुक्तिनाथ मंदिर-
इसके बारे में बात करें तो मुक्तिनाथ मंदिर नेपाल में खूबसूरत पहाड़ियों के बीच बना है। यह मंदिर जमीन तल से 3500 मीटर की ऊंचाई पर है। मुक्तिनाथ मंदिर का हिंदू धर्म के तीर्थस्‍थानों में खास महत्व है। यहां भगवान विष्णु को देवी वृंदा के शाप से मुक्ति मिली थी।

मुक्तिनाथ मंदिर में पूजा अर्चना वैदिक काल से हो रही है। पुराणों में मुक्तिक्षेत्र और शालग्राम अर्चना विधि का वर्णन मिलता है। मुक्तिधाम में बौद्ध धर्म को माननेवालों की भी अपार श्रद्धा है। बौद्ध संप्रदाय नारायण को आर्यावलोकितेश्वर मानकर पूजा करते हैं। मुक्तिनाथ धाम का संबंध भगवान बदरीनाथ से भी माना जाता है। इस मंदिर की एक बड़ी खासीयत है कि पिछले 56 सालों से 24 घंटे भजन-कीर्तन हो रहा है।

15-16 पुजारियों की टीम यहां 24 घंटे कीर्तन करती हैं। पारंपरिक रूप से विष्‍णु शालिग्राम शिला या शालिग्राम पत्‍थर के रूप में पूजे जाते हैं। इस पत्‍थर का निर्माण प्रागैतिहासिक काल में पाए जाने वाले कीटों के जीवाश्‍म से हुआ था, जो मुख्‍यत: टेथिस सागर में पाए जाते थे। जहां अब हिमालय पर्वत है।

पीएम मोदी 12 मई  यानि आज थोरांग ला पहाड़ियों की तराई में स्थित मस्तांग जिले में मुक्तिनाथ मंदिर में पूजा अर्चना करेंगे तथा इसके जीर्णोद्धार तथा विकास के लिए घोषणाएं करेंगे।

loading...
शेयर करें