ACB डीएसपी ने कहा, कोई घूस मांगे तो 1064 पर करें कॉल, और खुद 80 हजार घूस लेते पकड़े गए

एसीबी के डीजी बीएल सोनी ने बताया कि आरोपी डीएसपी भैरूलाल मीणा कोटा की आकाशवाणी कॉलोनी का रहने वाला है। सवाईमाधोपुर एसीबी चौकी में बतौर प्रभारी कार्यरत था।

राजस्थान: राजस्थान के सवाई माधोपुर में भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो का एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां पर रिश्वतखोरों के खिलाफ कार्रवाई करने वाला डीएसपी खुद ही घूस लेते पकड़ा गया है।

चौंकाने वाली बात तो यह है कि 9 दिसम्बर को अंतरराष्ट्रीय भ्रष्टाचार निरोधक दिवस यानी एंटी करप्शन डे के मौके पर एसीबी के डीएसपी ने भाषण दिया कि घूस लेना और देना दोनों अपराध की श्रेणी में आता है। अगर कोई घूस ले या दे तो 1064 पर कॉल करके शिकायत की जा सकती है। आमजन को भ्रष्टाचारियों के खिलाफ जागरूकता का पाठ पढ़ाने वाले ये डीएसपी भाषण के एक घंटे बाद खुद 80 हजार रुपए की घूस लेते पकड़े गए। नाम है डीएसपी भैरूलाल मीणा,जो सवाई माधोपुर एसीबी में कार्यरत हैं।

रिश्वतखोर डीएसपी भैरूलाल मीणा

एसीबी के डीजी बीएल सोनी ने बताया कि आरोपी डीएसपी भैरूलाल मीणा कोटा की आकाशवाणी कॉलोनी का रहने वाला है। सवाईमाधोपुर एसीबी चौकी में बतौर प्रभारी कार्यरत था। उसके खिलाफ बीते दो-तीन माह से लगातार मासिक बंधी की शिकायत मिल रही थी। बंधी भी वह एसीबी चौकी अफसरों को बुलाकर लेता था। इसलिए टीम लगातार उस पर नजर रख रही थी।

किसने किया गिरफ्तार 

सवाई माधोपुर के डीटीओ महेश चंद मीणा मासिक बंधी के 80 हजार रुपए देने आए हुए थे। तभी मौके पर एसीबी की टीम ने उन्हें रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद टीम जब मीणा के घर पहुंची तो वहां जमीनों के कागजात और 1 लाख 61 हज़ार नगद मिले। इस छापेमारी को डीजी बीएल सोनी औ एडीजी दिनेश एमएम के निर्देशन में जयपुर एसीबी की टीम ने एएसपी पुष्पेंद्र सिंह के नेतृत्व में अंजाम दिया है। एसीबी की टीम अब उनसे जु़ड़ी अन्य जगहों पर भी तलाशी का काम कर रही है ताकि रिश्वतखोर डीएसपी के भ्रष्टाचार की काली कमाई के बारे में पता चल सके।

यह भी पढ़े: स्वास्थ्य मंत्रालय ने बढ़ाई डेनमार्क में आंशिक लॉकडाउन की अवधि

Related Articles