ICMR के मुताबिक खाने में 2000 कैलोरी जरूरी, इन चीजों का करे सेवन

 

न्यूट्रीशन इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया
न्यूट्रीशन इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया

नई दिल्ली: इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के हैदराबाद स्थित, न्यूट्रीशन इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया के अनुसार एक व्यक्ति की रोजाना डाइट 2000 कैलोरी की होनी चाहिए. लेकिन ये सिर्फ किसी एक खाने के सामग्री से नहीं आना चाहिए, बल्कि अलग-अलग चीजों से आना चाहिए.

ICMR की माने तो हमें एनर्जी के लिए किसी एक फ़ूड प्रोडक्ट पर नहीं निर्भर होना चाहिए, क्योकिं किसी एक खाने की चीज़ से हमें एनर्जी तो मिल सकती है, लेकिन हमारे शरीर में विटामिन, कैल्शियम और प्रोटीन का संतुलन पूरी तरीके से बिगड़ जायेगा.

  • रोजाना डाइट में 2000 कैलोरी जरूरी
  • 270 ग्राम अनाज रोजाना खाने में करे इस्तेमाल
  • दाल, फली, मांस, अंडे और मछली का ज्यादा करे सेवन

खाने में 2000 होनी चाहिए कैलोरी की मात्रा 

ICMR के मुताबिक हमें अपने रोजाना खान-पान में 270 ग्राम अनाज का सेवन करना चाहिए, इसमें दाल रोटी चावल प्रमुख है. इससे आपके शरीर को 2000 कैलोरी का 45 प्रतिशत मिल जायेगा. इसके आलावा 90 ग्राम दाल रोज लेना चहिए,इससे करीब 17 कैलोरी मिलेगी प्रतिदिन 150 ग्राम फल का सेवन बहुत जरूरी है, ये शरीर को 3 प्रतिशत कैलोरी एनर्जी उपलब्ध कराता है.

खाने में 300 ग्राम दूध और दही को इस्तेमाल करने से 10 प्रतिशत कैलोरी की आपूर्ति होती है. 27 प्रतिशत घी और अन्य तरह के फैट्स इस्तेमाल करने से शरीर में 12 प्रतिशत एनर्जी पहुंचती है. वैज्ञानिकों ने ये भी कहा की हमे रोजाना 20 प्रतिशत अंकुरित चीजों (नट्स और सीड्स) का इस्तेमाल करना चाहिए, ऐसा करने से शरीर को 12 प्रतिशत एनर्जी मिलेगी.

अधिकतर लोगों का खान-पान सहीं नहीं 

ICMR की रिपोर्ट के मुताबिक देश के अधिकतर लोग अपने खान-पान का बैलेंस नहीं बना पा रहे है. चाहे गांव हो या फिर शहर हालात एक जैसे ही है.

गांव की आबादी का हाल  

रिपोर्ट के मुताबिक गांवों में 65.2 प्रतिशत लोग अनाज पर निर्भर है, जो की बहुत ज्यादा है और स्वास्थ्य के लिए हानिकारक भी है. एनर्जी के लिए हरी सब्जियों पर निर्भरता 5 प्रतिशत होनी चाहिए लेकिन गांव में करीब 8.8 प्रतिशत लोग ही इसका पालन करते है. गांव अच्छी गुणवत्ता की प्रोटीन का इस्तेमाल गांव में महज 5 प्रतिशत लोग ही कर रहे है. नट्स और ऑयल सीड्स पर गावों के लोगों की निर्भरता 22% है. ये बहुत ज्यादा है. वैज्ञानिकों के मुताबिक इसमें सुधार की जरूरत है.

शहर की स्तिथि भी ठीक नहीं  

शहरी क्षेत्र में भी खान-पान की स्तिथि अच्छी नहीं है, शहरों में 51 प्रतिशत लोग अनाज पर निर्भर है. शरीर को बेहतर एनर्जी देने के लिए रोजाना 5 प्रतिशत सब्जियों को खान-पान में शामिल करना चाहिए, लेकिन शहरों में अभी 17% लोग एनर्जी के लिए सब्जियों पर निर्भर है जो की बहुत कम है. नट्स और ऑयल सीड्स पर 27 प्रतिशत लोग निर्भर है, इसे घटाने की जरूरत है.

शहर की मात्र 18 प्रतिशत आबादी ही अच्छे प्रोटीन का सेवन कर रही है. जिसे बढ़ाया जाना चाहिए. 11% लोग एनर्जी के स्रोत के तौर पर स्नैक्स और मिठाइयों का इस्तेमाल कर रहे है जो की काफी हानिकारक है.

एनर्जी के लिए बहुत जरूरी है ये चीज़े 

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के वैज्ञानिकों ने बताया कि शरीर को बेहतर एनर्जी देने के लिए हमें दाल, फली, मांस, अंडे और मछली को अपने खाने में अधिक से अधिक लेना चाहिए. एनर्जी के लिए इन चीजों पर अभी लोगों की 11% निर्भरता है, लेकिन यह 17% होनी चाहिए.

 

ये भी पढ़ें- IPL 2020: हैदराबाद और पंजाब के बीच मुकाबला आज, नई रणनीति के साथ उतर सकते हैं राहुल

 

Related Articles