नीस शहर के चर्च में हमला करने वाला आरोपी गिरफ्तार

जीन फ्रैंकोइस रिचर्डस जो कि फ्रांस में आतंकवाद निरोधक विभाग में अधिकारी हैं, उन्होंने बताया कि हमलावर ट्यूनिशियाई नागरिक है। वह सितंबर महीने में यूरोप आया था और वो महज 21 साल का है।

नई दिल्ली: गुरूवार को नीस शहर स्थित एक चर्च में एक व्यक्ति ने चाकू से एक महिला का गला काटकर तथा दो और लोगों की बड़ी बेरहमी से हत्या कर दी थी। हमलावर जब महिला का गला काट रहा था उस समय काफी तेज से अल्लाहू-अकबर चिल्ला रहा था। नीस शहर के मेयर क्रिश्चियन एस्ट्रोसी ने बताया कि हमलावरों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

जीन फ्रैंकोइस रिचर्डस जो कि फ्रांस में आतंकवाद निरोधक विभाग में अधिकारी हैं, उन्होंने बताया कि हमलावर ट्यूनिशियाई नागरिक है। वह सितंबर महीने में यूरोप आया था और वो महज 21 साल का है। वो भूमध्य सागर के आइलैंड लैंपडूसा से होते हुए इटली पहुंचा था, अफ्रीका से आनेवाले प्रवासियों के लिए यह जगह मुख्य लैंडिंग प्वाइंट है।

यह भी पढ़ें- कश्मीर में आतंकवादियों ने की तीन भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या, पीएम मोदी ने जताया दु:ख

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री ने हमले की आलोचना की

बीते गुरूवार को फ्रांस के नीस शहर में एक शख्स द्वारा एक महिला तथा दो और लोगों की बेरहमी से हत्या कर दिए जाने की ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने गहरी निंदा की है। मॉरिसन ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया फ्रांस के लोगों के साथ है।

चर्च में जब हमला हुआ तब वहां पर काफी मात्रा में लोग उपस्थित थे। जिस चर्च में हमला हुआ वो नीस शहर के सबसे बड़े चर्चों में से एक है। इस इलाके में फ्रांस के राष्ट्रपति के बयान के बाद कल से पहले भी गोलियां चलने की आवाज सुनाई दी थी। मरने वालों में से एक उस चर्च का वॉर्डन भी था।

फ्रांस के राष्ट्रपति के बयान के बाद हमले शुरू हुए

दरअसल यह मामला फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रॉन के मुस्लिमों पर विवादित बयान के बाद भड़का था, राष्ट्रपति मैक्रॉन ने विवादित बयान देते हुए कहा था कि इस्लाम धर्म पूरी दुनिया के लिए संकट है। इस धर्म की वजह से ही पूरी दुनिया पर संकट मंडरा रहा है। इसके बाद से ही ट्विटर और बाकी सारे सोशल मीडिया पर लोग उनके खिलाफ बोल रहे हैं। प्रत्येक मुस्लिम देश उनके इस बयान की आलोचना कर रहा है। कल की घटना फ्रांस मे इस तरीके का तीसरा हमला है। इससे पहले भी दो हमले हो चुके हैं जिनमें दर्जनों लोगों की जान जा चुकी है।

यह भी पढ़ें- डीपीसीसी के अनुसार दिल्ली में वायु प्रदूषण की स्थिति गंभीर

Related Articles